बिपिन रावत के निधन के बाद सीडीएस के पद को लेकर ये दो नाम चल रहे हैं आगे, जानिए

Date:

तमिलनाडु के कुन्नूर में बुधवार को हेलिकॉप्टर क्रैश के दौरान चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत का निधन हो गया है. उनके निधन से देशभर में शोक की लहर छा गई है. शुक्रवार को राष्ट्रीय सम्मान से जनरल बिपिन रावत का अंतिम संस्कार किया जाएगा. गुरूवार को उनका और उनकी पत्नी का पार्थिव शरीर दिल्ली लाया जाएगा. बता दें कि उत्तराखंड में तीन दिन का राजकीय शोक भी घोषित किया गया है.

आपको बता दें कि जनरल बिपिन रावत के निधन के बाद अब नए जनरल के लिए दो नाम रेस में आगे चल रहें हैं. बताया जा रहा है कि केंद्र सरकार जल्द ही नए सीडीएस के नाम का ऐलान कर सकती है. बता दें कि जनरल बिपिन रावत ने जनवरी साल 2020 में देश के पहले सीडीएस के तौर पर कमान संभाली थी. वहीं, नए सीडीएस की नियुक्ति के लिए नियमों के अनुसार, कमांडिंग या फ्लैग ऑफिसर इस पद के लिए एलिजिबल (योग्य) हैं.

दरअसल, इस रेस में दो जनरल के नाम सामने आ रहें हैं. पहले जनरल मनोज मुकुंद नरवणे और दूसरे एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया हैं. आपको बता दें कि जनरल नरवणे फिलहाल चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ हैं. जनरल नरवणे नौसेना और वायु सेना में अपने समकक्षों से वरिष्ठ हैं. 31 दिसंबर 2019 को 27वें थल सेनाध्यक्ष के रूप में पदभार संभालने वाले नरवणे ने पहले सेना के उप प्रमुख के रूप में कार्य किया और इससे पहले उन्होंने सेना की पूर्वी कमान का नेतृत्व भी किया जोकि चीन के साथ भारत तकरीबन 4हजार किमी की सीमा की देखभाल करती है.

वहीं, एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया जून 1980 में आईएएफ (IAF) की फाइटर स्ट्रीम में शामिल हुए और 42 साल की सेवा के बाद सेवानिवृत्त हुए, जिस दौरान उन्होंने दो मेगा फाइटर एयरक्राफ्ट सौदों में खास भूमिका निभाई. बता दें कि इसमें 36 राफेल और 83 मार्क 1ए स्वदेशी तेजस जेट शामिल थे. इन्होंने 4,250 घंटे से अधिक की उड़ान भरी है. इतना ही नहीं इन्हें 26 से ज्यादा विभिन्न प्रकार के लड़ाकू जेट और परिवहन विमान उड़ाने का भी तजुर्बा है.

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related