लॉक डाउन के बीच योगी सरकार की बड़ी तैयारी, मजदूरों के लिए कर सकती है ये काम

1805

उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी ने अभी कुछ दिन पहले कोटा में फंसे अपने बच्चो को वापस बुलाया था. उसके बाद से लोगों ने उनपर आरोप लगाना शुरू कर दिया था कि उन्होंने बच्चो को बुला लिया है लेकिन जो मजदूर फंसे हैं उनके न्बारे में क्यों नही सोच रही हैं सरकार.

 तो आज उस्सी को लेकर यूपी सरकार ने फैसला लिया है कि उसके जो भी मजदूर दूसरे राज्यों में 14 दिन का क्वारनटीन पूरा कर चुकेहैं उनको वापस लाने की तैयारी में है. प्रदेश सरकार दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को चरणबद्ध तरीके से वापस लाएगी. इसके लिए कार्य योजना बनाने को योगी सरकार ने मंजूरी दी है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कोविड-19 पर हुई मीटिंग के बाद कहा कि एक कार्य योजना तैयार की जाए, जिसमें दूसरे राज्यों में फंसे हुए मजदूरों की चेकिंग और टेस्टिंग करने की योजना बने और फिर प्रदेश की सीमा में आने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार उन मजदूरों को उनके जिलों तक अपनी बसों के माध्यम से पहुंचाएगी.

बता दें कि कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए देश भर में लगाए गए लॉकडाउन के बीच अलग-अलग राज्यों में मजदूर फंसे हुए हैं. ये प्रवासी मजदूर लगातार अपने घर वापस जाने की मांग कर रहे हैं. कुछ मजदूर तो अपने घर के लिए पैदल ही निकल पड़े हैं. लेकिन अब मजदूरों को लेकर योगी सरकार ने फैसला लिया है कि हम अपने मजदूर वापस लायेंगे.

बसपा प्रमुख मायावती, सपा प्रमुख अखिलेश यादव सहित कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कोटा से बच्चों को वापस लाए जाने के योगी सरकार के कदम की तारीफ की थी. साथ ही दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को वापस लाए जाने की मांग की थी. तो आज यूपी के मुखिया ने उनकी इस बात को सुन्न लिया हैं और मजदूरों को वापस बुलाने के लिए एक चरणबद्ध तरीके से तैयारी क्र के उनको अपने अपने घर भेजा जायेगा.