आखिर योगी आदित्यनाथ ने किसे कह दिया ‘बद-चलन और चरित्र-हीन’ जानिये क्या है पूरा मामला

2323

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अक्सर अपने फैसलों को लेकर सुर्ख़ियों में रहते हैं. योगी आदित्यनाथ के बयान भी मीडिया में हैडलाइन बन जाती हैं. योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश की विधानसभा में एक बयान दिया है. जिसकी वजह से योगी आदित्यनाथ एक बार फिर सुर्ख़ियों में हैं. इस बार योगी आदित्यनाथ ने विधानसभा में बयान दिया है.

दरअसल समाजवादी पार्टी के विधायक इरफान सोलंकी ने 9 सितंबर, 2013 को मुजफ्फरनगर दं’गो के दौरान मारे गए नवाब और उसके भाई शाहिद, दोनों की ह’त्या के प्रमुख गवाह उनके भाई वहाब की ह’त्या के बारे में राज्य विधानसभा में एक सवाल पूछा था।  इसी सवाल के जवाब में योगी आदित्यनाथ ने जवाब दिया कि ‘मामले में जांच में पाया गया कि नवाब और शाहिद लोगों के घरों में जाकर दूध बेचने का काम करते थे। नवाब एक बद चलन और चरित्र हीन किस्म का व्यक्ति था, जिसके कृष्णपाल की पत्नी के साथ अ-वैध संबंध थे। जांच में नवाब और शाहिद द्वारा महिला के साथ दु-र्व्यहार की पुष्टि हुई और आरोपी से पूछताछ में सच्चाई सामने आई’ 

इतना ही नही योगी आदित्यनाथ ने एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए यह भी साफ़ कर दिया है कि 2013 में दो भाइयों की ह’त्या किसी भी तरह से मुजफ्फर-नगर दं’गों से जुड़ी नहीं थी। प्रदेश की योगी सरकार ने मुज़फ्फर-नगर दं’गे के 20 मुक़दमे और वापस लेने की अनुमति दे दी है. इसके लिए शासनादेश जारी हो चुका है. बता दें सरकार ने अब तक कुल 74 मुकदमों को वापस लेने की अनुमति दे चुकी है. शासन की तरफ से जिन मुकदमों की वापसी की अनुमति दी गई है वे पुलिस और पब्लिक की तरफ से दर्ज कराए गए थे. ये सभी केस आगजनी, लूट, डकैती आदि धाराओं के हैं.

समाजवादी पार्टी की अखिलेश सरकार में मुजफ्फरनगर में भीषण दं’गा हुआ था. मुजफ्फरनगर और आसपास के इलाकों में अगस्त-सितंबर 2013 में हुए सांप्रदायिक दं’गे में 60 लोग मारे गए थे और 40 हजार से अधिक लोग बेघर हुए थे. मुजफ्फरनगर दं’गो के दौरान कुल 502 मुकदमे दर्ज किये गए थे जिसमे 6867 लोग आरोपी बताये गये थे.