दूसरे राज्यों में फं’से मजदूरों को योगी आदित्यनाथ ने कहा ‘चिंता मत करो, आप लोगों के लिए…

1462

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने प्रदेश के लिए आये दिन कड़े कदम उठा रहें हैं. कोरोना की वजह से देश के अंदर लॉक डाउन जारी हैं. इस लॉक डाउन में मजदूर और कामगारों लोग फंस गए हैं. जिनके लिए योगी सरकार उनको उनके गन्तव तक पहुँचाने में लगी हैं. कल इसी को लेकर गृह मन्त्रालय ने नई गाइडलाइन्स भी जारी कर दी हैं. जिनके हिसाब से मजदूरों को अपने प्रदेश में वापस लाया जा सकता हैं. जो अलग अलग प्रदेश में फंसे हैं.

योगी  ने अलग-अलग राज्यों में फंसे कामगारों व मजदूरों से अपील की है कि वे ‘वर्तमान में जिस जगह पर हैं वहीं रहें और धैर्य का परिचय दें, मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर कहा है कि ‘मजदूर व कामगार पैदल न चलें. राज्य सरकारों से वार्ता कर सभी फंसे हुए लोगों की वापसी के लिए कार्ययोजना बनाई जा रही है.’ इन सबको ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री ने अपनी टीम 11 के साथ बैठक कर आगे की रणनीति भी बनाई. साथ ही अधिकारियों को जरुरी दिशा निर्देश भी दिए हैं.

योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर लिखा, “सभी प्रवासी कामगार व श्रमिक बहनों-भाइयों से अपील है कि जिस धैर्य का परिचय आप सभी ने अभी तक दिया है उस धैर्य को बनाए रखें. पैदल न चलें. जिस राज्य में है वहां की सरकार से संपर्क में रहें. आप सभी की सुरक्षित वापसी के लिए संबंधित राज्य सरकार से वार्ता कर कार्ययोजना बनाई जा रही है.’

योगी सरकार ने सभी राज्य सरकार को पत्र लिखकर अपने प्रदेश के लोगों का पूरा ब्यौरा मांगा है और उन सबकी मेदिअच्ल रिपोर्ट की भी मांग की हैं. इन सबके बीच में योगी सरकार ने ये भी आदेश दिया है कि मजदूरों और श्रमिकों जो अलग अलग राज्य में फंसे हैं. उनके लिए शेल्टर होम, क्वारिंटीन सेन्टर और कम्युनिटी किचेन बनाने के भी निर्देश दिए है.

योगी सरकार ने कहा है कि इनको वापस लेन के बाद 14 दिनों तक क्वारंटाइन में रखा जाएगा और उसके बाद उनको अपने-अपने गृह जनपद भेजा जायेगा.