योगी सरकार ने लॉकडाउन के बीच दाखिले के लिए निकाला अनूठा रास्ता, जानिए क्या हैं?

1853

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कोरोना से लड़ने के लिए कदम उठाते रहते हैं. वही वो प्रदेशवासियों की भी चिंता रहती हैं. अब योगी सरकार ने बच्चों का ख्याल करते हुए ताकि कोरोना वायरस की वजह से उनका करियर खराब न हो. उनके नए सेशन के लिए डिजिटल तरीके से यूपी के अंदर एडमिशन लेने का तरीका निकाल लिया हैं.

यूपी सरकार ने कोरोना लॉकडाउन में यूपी बोर्ड के सभी स्कूलों में अब व्हाट्सएप के जरिये छात्रों का दाखिला किये जाने का रास्ता निकाला है. इस अनूठे तरीके को इस्तेमाल करने के लिये यूपी के शिक्षा विभाग ने अनुमति भी दे दी है. कोरोना को को देखते यूपी के माध्यमिक शिक्षा विभाग कक्षा 6, 7, 8, 9 और 11वीं के छात्रों को बिना परीक्षा के अगली कक्षा में प्रोन्नत करने के निर्देश दे चुका है. अब इनके एडमिशन को लेकर देरी न हो इसलिए योगी सरकार ने एक अनूठा तरीका निकला हैं. ताकि बच्चो का एडमिशन टाइम पर हो सके.  

दरअसल ताजा व्यवस्था के मुताबिक अब स्कूल प्रबंधक छात्रों को व्हाट्सएप के जरिये अगली कक्षा में दाखिला दे सकते हैं. ऐसा यूपी के शिक्षा विभाग ने कह दिया हैं. एडमिशन के लिए स्कूल का मैनेजमेंट अपने प्रिंसिपल और शिक्षक के मोबाइल नंबर का प्रचार पसार कर सकते हैं ताकि उन बच्चो तक पहुँच जाएँ जिनको दाखिला लेना है. व्हाट्सएप पर छात्र या उनके अभिभावक अपने बच्चे की डिटेल दे सकते हैं और अस्थाई के तौर पर दाखिला ले सकते हैं.अस्थाई एडमिशन लेने वाले बच्चे जब स्कूल खुलेगा लॉकडाउन के बाद तब वो अपने डाक्यूमेंट्स स्कूल प्रबंधन को दिखाकर स्कूल प्रबंधन उसपर मुहर लगा सकता हैं. अगर लॉकडाउन ज्यादा आगे बढ़ता हैं तो स्कूल प्रबंधन उन बच्चो की पढाई भी ऑनलाइन शुरू कर सकता हैं. जिनका एडमिशन हो चूका हैं.

लॉकडाउ साथ ही दाखिला दिए गए छात्रों को स्कूल ऑनलाइन शिक्षा व्यवस्था से जोड़ सकता है. सरकार की तरफ से जारी निर्देश में ऑनलाइन वर्चुअल क्लास के लिए जो व्हाट्सएप ग्रुप बनाया गया है, उस पर दाखिले लिए हुए छात्रों को जोड़कर ऑनलाइन शिक्षा का लाभ देने का निर्देश दिया गया है. एडमिशन लेने की प्रक्रिया में बच्चो को अपना नाम, पिता का नाम, आधार नंबर ये डिटेल लिखकर स्कूल प्रबंधन को व्हाट्सएप कर सकता हैं जिससे उसका एडमिशन लिया जा सकेगा. ऐसा लखनऊ के अंदर अमीनाबाद अन्तर कॉलेज ने ऑनलाइन प्रक्रिया से बच्चो के एडमिशन लेना प्रारंभ भी कर दिया हैं.