दं’गाईयों में योगी सरकार का खौ’फ़, आ’रो’पियों ने चुकाई इतनी कीमत

1151

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के दौरान हुई हिं’सा के आ’रो’पियों को लेकर योगी सरकार शुरू से ही एक्शन में नजर आई. योगी सरकार ने दं’गा करने वालों को पहले ही चेता’वनी दे दी थी. दं’गा’ईयों को बता दिया था कि अगर दं’गा हुआ तो उनकी खै’र नही है. लेकिन कुछ उप’द्रवि’यों ने योगी सरकार की अन’दे’खी कर दी. जिसका खा’मिया’ज़ा आज उनको भुग’तना पड़ रहा है.

योगी सरकार ने लखनऊ के बड़े चौराहों पर दं’गाई’यों के पोस्टर चस्पा कर दिये थे. जिसको लेकर हाई कोर्ट ने संज्ञान लिया था. आदेश दिये थे कि पोस्टर हटाये जायें. लेकिन योगी सरकार ने उनके इस आदेश को पलटते हुए उस पर अध्यादेश बना दिया. वहीं कानपुर में सार्वजनिक संपत्ति को नुक’सान पहुंचाने के 21 आ’रो’पियों में से 6 ने रिकवरी नोटिस के बाद 80 हजार रुपये की भर’पाई सरकार को कर दी है.

योगी सरकार ‘दंगा’ईयों के साथ किसी प्रकार की कोई राहत देने के मूड नही है. इसको लेकर विपक्षी पार्टियों ने योगी सरकार को घे’रने की कोशिश की और योगी को तो कांग्रेस पार्टी ने दं’गा’ई तक बोल दिया था. लेकिन कांग्रेस अपना वक्त शायद याद नही करना चाहती है कि उसने देश के साथ क्या सलूक किया है. लेकिन योगी सरकार अपना काम करती रही और उस पर कोई असर नही पड़ा. इसके विपरीत योगी सरकार के ऊपर जब विधानसभा में सीएए को लेकर विपक्ष आ’रोप लगा रहा था. उसके जवाब में योगी ने विपक्षी पार्टी की कलई खोल दी और उनको याद दिलाया कि उनके वक्त में प्रदेश की क्या हालत थी.

आज की बात करें तो उत्तर प्रदेश पूरी तरह से सुरक्षित हाथों में है. योगी सरकार प्रदेशवासियों के लिए अच्छा काम कर रही है. योगी सरकार गरीबों की भी मदद करने में पीछे नही रहती है.  मोदी का जो नारा है. सबका साथ, सबका विकास पर योगी सरकार अपने काम को अंजाम दे रही है.