उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ जबसे मुख्यमंत्री बने हैं तबसे उनके ऊपर पूरे प्रदेश की जिम्मेदारी है. योगी इस जिम्मेदारी को बखूबी निभा भी रहें है. लेकिन उसके बावजूद भी योगी अपने कार्यकर्ताओं से मिलने में किसी प्रकार का कोई गु’रेज नही करते हैं. ऐसा ही कुछ गोरखपुर में देखने को मिला. योगी जब गोरखपुर पहुंचे तब उन्होने बीजेपी संगठन से जुड़े अपने कार्यकर्ताओं से बढ़ चढ़कर मुलाकात की.

एक मामला गोरखपुर में देखने को मिला जब योगी वहां पर मौजूद थे. एक 25 साल से बीजेपी की सेवा कर रहे एक कार्यकर्ता अखिलेश यादव का सीएम योगी आदित्यनाथ से पुराना परिचय है. पिछले दिनों अखिलेश यादव अपनी बेटी की शादी के लिए निमंत्रण लेकर सीएम योगी से मिले थे. ये बात योगी को जब पता चला तो योगी ने अपने पुराने बीजेपी के कार्यकर्ता अखिलेश की बेटी की शादी में 2 लाख रुपये की आर्थिक साहायता की है. ऐसा डीएम की तरफ से संदेश आया है.

दरअसल, सदर क्षेत्र में स्थित अकोलोहिया गांव के रहने वाले अखिलेश यादव लंबे समय से बीजेपी से जुड़े रहे हैं. संगठन से जुड़ी किसी भी जिम्मेदारी को वह पूरी निष्ठा से निभाते हैं. सीएम योगी भी अखिलेश को बखूबी जानते हैं. पिछली 9 फरवरी को सीएम योगी का खोराबार स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर आरोग्य मेले का उद्घाटन कार्यक्रम था. अखिलेश भी यहां पहुंचे थे. वहां पर कार्यक्रम के दौरान सीएम योगी से मुलाकात हुई, तो उन्होंने अपनी बेटी की शादी तय करने की जानकारी दी. इसके बाद दूसरे दिन अखिलेश ने गोरखनाथ मंदिर में जाकर सीएम योगी से मुलाकात की और बेटी की शादी का न्योता दिया.जिसे सीएम ने स्वीकार कर लिया है.

इसके बाद योगी ने अखिलेश की बेटी के लिए 2 लाख रुपये की मदद की. ये मैसेज कल डीएम कार्यालय से आया. इसके बाद अखिलेश की आंखों में आंसू भर आये और उनका गला भी भर गया क्योकि वो इतने ज्यादा भावुक हो गये थे. जब उनको पता चला कि योगी आदित्यनाथ की तरफ से बेटी की शादी को लिए साहयता की गई है. इसे ये साफ होता है कि योगी आदित्यनाथ सबका ध्यान रखते है और बढ़ चढकर सबकी मदद करते हैं.