कोटा से लौटी छात्रा ने की योगी आदित्यनाथ से बात, कहा कि आप जैसा…

1538

उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ कोरोना वायरस की लड़ाई में अपने प्रदेशवासियों का हर तरह से ध्यान रख रहें हैं.योगी ने अपने प्रदेश के बच्चे जो लॉक डाउन के दौरान दूसरे प्रदेश में फंस गए है. उनको वापस अपने घर भेजना हो या फिर दिहाड़ी मजदुर हो उन सबको अपने अपने घर भेजने के लिए योगी ने बस भेज कर उन सबको वापस बुला लिया. इन सबके बीच वापस आये बच्चो से योगी ने विडियो कांफ्रेंसिंग पार बात भी की.

योगी ने जब कल की तो उधर से आवाज आई ‘सर नमस्ते, उसके बाद उसने कहा कि कोटा में देश के कई हिस्से से लोग पढाई करने आते हैं. आगे उसने कहा कि पढ़ाई के साथ मोटीवेशन जरूरी है और मेरे लिए मेरे लिए तो मोटीवेशन करने वाले आप हैं. आप ऐसे इकलौते सीएम हैं जिन्होंने अपने प्रदेश के बच्चों के बारे में चिंता जाहिर की और सभी को सकुशल घर पहुंचा दिया.’

योगी देश का सबसे बड़ा प्रदेश यूपी जिसके वो मुखिया है. उनसे जब छात्र ने सवाल पूछा कि आप इतनी व्यस्तता के बाद भी आपको इतनी ऊर्जा कहां से मिलती है. छात्रा दीक्षा का यह सवाल सुनते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हंसने लगे. ‘बोले-सीएम का काम सिर्फ सत्ता चलाना नहीं है, यह भी देखना है कि उनके लोग किस हाल में हैं’. शाम साढ़े चार बजे सबसे पहले उन्होंने वाराणसी पहुंचे विद्यार्थी से बात की और इसके बाद नंबर आया गोरखपुर का.

उसके बाद योगी ने एक और छात्र से बात की और वो रुस्तमपुर की रहने वाली दीक्षा वर्मा कनेक्ट हुईं तो ‘सीएम ने स्वास्थ्य के साथ ही पढ़ाई के बारे में जानकारी ली. सीएम ने कहा कि आप घर पहुंच गईं तो आपके माता-पिता सभी खुश हैं ना.’ सीएम ने कहा कि बच्चों को लाने में जो ऊर्जा लगी है, उसकी दक्षिणा आप सभी की सफलता से मिल जाएगी’.

बच्चो से बात करने के बाद बच्चे तो फूले नहीं समां रहें हैं. लेकिन इसे योगी की सरलता भी साफ़ नजर आ रही हैं और वो अपने प्रदेश के सभी लोगों का ख्याल रख हैं और राजधर्म भी निभा रहें हैं.