कोरोना के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी के उपयोग पर योगी आदित्यनाथ ने कही ये बात

430

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना को लेकर आये दिन कोई न कोई फैसला लेते रहते है. प्रदेशवासियो के लिए लिया योगी द्वारा लिया गया फैसला काबिले तारीफ है. वो कोरोना से बचाव के लिए शासन और प्रशासन सबको चौकन्ना रहने को बोलते है और खुद भी रात दिन लगे रहते है. योगी ने प्लाजमा थेरेपी पर जोर दिया है जिससे कोरोना से लड़ा जा सके.   

योगी आदित्यानाथ ने कहा है कि प्रभावित मरीजों के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी को बढ़ाने पर विचार करना चाहिए. इसके अच्छे परिणाम मिले हैं. वहीं कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए पूल टेस्टिंग को बढ़ावा दिया जाए. पूल टेस्ट के माध्यम से अधिक से अधिक लोगों की जांच करके कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण किया जा सकता है। 

उन्होंने कम्युनिटी किचन की तरह शेल्टर होम की जियो टैगिंग कराने के निर्देश दिए और कहा कि कोरोना के उपचार में लगी डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिक्स तथा अन्य स्टाफ  को हर हाल में मेडिकल इंफेक्शन से बचाया जाए.

मुख्यमंत्री ने रविवार को अपने आवास पर कोविड-19 से निपटने के लिए गठित टीम-11 के साथ बैठक की. उन्होंने कहा कि कोरोना से जंग में मेडिकल टीम को सुरक्षित रखना अत्यंत आवश्यक है. इसके लिए कोविड अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में पीपीई किट और एन-95 मास्क की व्यवस्था की जाए।. योगी ने आगे कहा कि अस्पतालों की साफ-सफाई करते हुए लगातार सैनिटाइजेशन कराया जाए और ध्यान रखा जोए कि डॉक्टर और नर्सो को किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत का सामना न करना पड़े. डॉक्टर और नर्स को कोरोना से बचने के लिए मास्क और जो भी जरूरी चीज़े है उन्हे पर्याप्त मात्रा में पहुंचाया जाए.