योगी सरकार ने मजदूरों के लिए लांच किया ये एप, प्रवासी और श्रमिकों को इस एप के जरिये मिलेगा रोजगार

36341

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कोरोना से लड़ने के लिए कई अलग-अलग  कदम उठाते रहते हैं. वही वो प्रदेशवासियों की भी चिंता रहती हैं. लॉकडाउन होने के बाद योगी सरकार मजदूरों को लेकर काफी चिंता में थी और जो मजदूरो जहाँ फंस गए थे उनको वापस लाने के लिए भी प्रयास किया था और उस प्रयास में सफल भी हुए हैं. योगी सरकार ने प्रवासी मजदूरों को वापस अपने घर बुला लिया हैं. योगी ने मजदूरों के लिए अब नौकरी देने की तैयारी के लिए एक एप लांच किया हैं.

कोरोना की वजह से देश के अंदर लॉकडाउन चल रहा हैं. जिसकी वजह से उत्तर प्रदेश पहुंचे श्रमिकों व मजदूरों के भविष्य की चिंता करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ‘प्रवासी राहत मित्र’ एप को लांच किया है. इस एप के जरिए उत्तर प्रदेश में आने वाले प्रवासी नागरिकों को सरकारी योजना का लाभ, उनके स्वास्थ्य की निगरानी और विशेषकर उनके कौशल के लायक भविष्य में नौकरी व आजीविका प्रदान करने में सहयोग के लिए प्रवासी नागरिकों का डाटा कलेक्शन करना है.

राजस्व विभाग राहत आयुक्त कार्यालय द्वारा जारी एक विज्ञापन के मुताबिक इस ‘एप के माध्यम से विभिन्न विभागों द्वारा आपस में इन  के रोजगार और आजीविका के लिए रोडमैप बनाने में मदद मिलेगी.’ इस एप में जो मजदुर शेल्टर केंद्र में ठहरे हैं या फिर किसी वजह से फं’स गए हैं या यहाँ पर रहने की कोई और कारण हैं उन सभी श्रमिक और प्रवासी मजदूरों का डेटा इस एप में होगा. जिससे उनकी मदद की जा सकेगी. इस एप में मजदूरों की बैसक जानकारी भी देनी होगी मसलन अपना नाम, शैक्षिक योग्यता, अस्थायी और स्थायी पता, बैंक अकाउंट का विवरण, कोरोना स्क्रीनिंग के साथ ही 65 से ज्यादा जानकारी एकत्र की जाएगी

इस एप में किसी भी प्रकार की कोई धोखाधडी न हो इसलिए एक यूनिक नंबर भी बनया गया हैं और वो नंबर होगा मोबाइल नंबर को ही आधार बनया गया हैं. इस एप की एक खासियत ये भी है कि ये एप ऑनलाइन के अलावा ऑफलाइन भी काम करता हैं और इस एप में गाँव और शहर के डेटा को अलग-अलग कर के एकत्रित किया जा सकता हैं. इसके लिए जिलाधिकारियों के के अंडर में डेटा कलेक्ट करने के लिए निर्देश जारी कर दिए गए हैं.