बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत का ये सपना रह गया अधूरा

Date:

Follow Us On

बुधवार को तमिलनाडु में हुई दुर्घटना में चीफ ऑफ डिफेंस बिपिन रावत का निधन हो गया जिनका नोएडा से गहरा संबंध रहा है। उनका घर सेक्टर 37 में है। हालांकि वह यहां नहीं रहते थे। इस घर में उनके करीबी रिश्तेदार रहते हैं।
सेना प्रमुख बनने से पूर्व उनके पिता लेफ्टिनेंट जनरल एलएस रावत यहां रहा करते थे, बाद में वे दिल्ली में बस गए। आज से तीन वर्ष पूर्व 2 मार्च, 2019 को शहीद स्मारक के वार्षिक समारोह में जनरल बिपिन रावत ने मुख्य अतिथि के रूप में भाग लिया था। उस समय नोएडा के लोग उनसे मिले थे।

4 वर्ष पूर्व किराए पर दिया था मकान
अब सेवानिवृत्त कर्नल डॉ. नोएडा के इसी घर में जेपी सिंह और उनकी महिला सरोज रहते हैं. उन्होंने बताया कि यह घर छह वर्ष से खाली पड़ा था। वे चार वर्ष पूर्व यहां रहने आए थे।

अधूरा रह गया सपना
विपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका 4 महीने पहले अपने इस घर में आए थे ऐसा सरोज ने बताया। उन दोनों ने यहां स्पेशल एक कमरा बनवाया था अपने रहने के लिए और जाते वक्त कहकर गई थी अब यहां कभी कभी रुकने आया करूंगी इसीलिए कमरा बनवा रही हूं। उन्होंने बड़े मन से कमरा बनवाया और उसकी आंतरिक सज्जा भी स्वयं करवाई। उनका यह सपना, सपना ही रह गया, वह यहां रहने ना आ सकीं। हादसे की खबर सुनते ही नोएडा के लोगों को काफी दुख हुआ और उन्होंने सोशल मीडिया पर दुख प्रकट करना शुरू कर दिया. लोग हादसे की उच्च स्तरीय इन्वेस्टिगेशन की मांग कर रहे हैं।
उनके पड़ोसियों ने बताया कि विपिन रावत घर आते जाते रहते थे। उनसे पहले उनके बच्चे भी यहां रहते थे बाद में वह लोग दिल्ली रहने लगे। नोएडा के पुश्तैनी घर में रहने के लिए चार महीने पहले बनवाया था कमरा, लेकिन मधुलिका और CDS बिपिन रावत का सपना नहीं हो सका पूरा।

Share post:

Popular

More like this
Related