इस तरीके से भारत लौट रहे हैं विंग कमांडर अभिनन्दन

544

मिग- 21 बाइसन से दुश्मन पाकिस्तान का एफ़- 16 गिरा देने वाले विंग कमांडर अभिनन्दन. अपना प्लेन क्रैश होने पर सही सलामत बच निकले विंग कमांडर अभिनन्दन. लेकिन बदकिस्मती कि उनका प्लेन क्रैश होकर जिस जगह गिरा वो ज़मीन थी दुश्मन देश पाकिस्तान की.

मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तान की जनता ने उनको पैरासूट से उतरते देख उन्हें घेर लिया. उन्हें ये तक पता नहीं था कि वो जिस ज़मीन पर उतरे हैं वो पाकिस्तान की है. एक वायरल वीडियो से मिली जानकारी के मुताबिक़ उन्होंने उन्हें घेरकर खड़े लोगों से पूछा,

“ये कौनसी जगह है?”

लोगों ने उनसे झूठ कहा कि वो हिन्दुस्तान में गिरे हैं. उन्हें भरोसा नहीं हुआ तो उन्होंने “भारत माता की जय” का नारा लगाया. इसके बाद कुछ बुजुर्गों ने उन्हें बताया कि वो पाकिस्तान में हैं. वायरल वीडियो में पाकिस्तानी नागरिक बताता है कि अभिनन्दन उठकर भागने लगे और नाले में कूद गए.

अभिनन्दन को भागता देख लोगों ने उन्हें घेरकर पकड़ लिया. एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ जिसमें पाकिस्तान के कुछ लोग उनको घेरकर चल रहे हैं, उनकी आँखों पर पट्टी बंधी हुई है. लोग उनपर हमला कर रहे हैं. और अधिकारी उन्हें लोगों से बचाते हुए अपने साथ ले जा रहे हैं.

इस वीडियो को देखने के बाद भारतीय जनता में आक्रोश फैल गया. अपने देश के विंग कमांडर को इस हालत में देखकर लोगों का खून खौल गया. लोग सोशल मीडिया पर पाकिस्तान के खिलाफ अपना गुस्सा दिखाना लगे. लेकिन अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई थी कि वीडियो में जो नज़र आ रहे हैं वो अभिनन्दन ही हैं.

लेकिन फिर पाकिस्तान ने खुद उनका एक वीडियो जारी करते हुए कहा कि अभिनन्दन उनके कब्ज़े में हैं. इस वीडियो में लोग विंग कमांडर अभिनन्दन की निडरता देखकर दंग रह गए. वीडियो में अभिनन्दन चाय पीते नज़र आ रहे थे. और पाकिस्तान का कोई अधिकारी उनसे सवाल जवाब कर रहा था. और विंग कमांडर अभिनन्दन की तरफ से मिल रहे जवाबों को सुनकर लोग हैरान थे.

सवाल- नाम क्या है तुम्हारा?
जवाब- विंग कमांडर अभिनन्दन.

सवाल- उम्मीद है आपको यहाँ अच्छे से रखा जा रहा है?
जवाब- बिल्कुल मैं अपने इस बयान को रिकॉर्ड करवाना चाहूंगा, और अपने देश जा कर भी इस बयान को नही बदलूंगा. मुझे ये लोग अच्छी तरह से रख रहे हैं. पाक आर्मी में बहुत नेक इंसान हैं. जब से इस तरफ आया हूँ तब से पाक आर्मी के जवान मेरा ख्याल रख रहे हैं.

सवाल- अच्छा कमांडर आप इंडिया में कहा से आते हैं?
जवाब- क्या आपको लगता है मुझे बताना चाहिए? माफी चाहूंगा मेजर, वैसे मैं साउथ से बिलोंग करता हूं.

सवाल- क्या आपकी शादी हो चुकी है?
जवाब- हाँ!

सवाल- आशा है चाय आपको अच्छी लगी होगी?
जवाब- हां! बहुत बढ़िया है?

सवाल- ठीक है अब कुछ ख़ास बातें. आप कौनसा विमान उड़ा रहे थे?
जवाब- माफी चाहता हूँ मेजर. ये मैं आपको नहीं बता सकता, लेकिन मुझे भरोसा है कि रिकार्ड्स से आपको पता चल जाएगा.

सवाल- और आपका मिशन क्या था?
जवाब- माफी चाहता हूँ. मुझे नहीं लगता कि मुझे आपको बताना चाहिए

उनकी निडरता को जिसने भी देखा, हैरान रह गया. दुश्मन देश में होकर भी अभिनन्दन की तरफ से दुश्मन सेना के अधिकारी को दो टूक दिए जा रहे जवाबों को सुनकर लोग हैरान भी हुए, और हिम्मत भी मिली.
इधर उनकी गिरफ्तारी की खबर आने के तुरंत बाद से इधर भारत में उन्हें बचाने की कवायद शुरू हो गयी. बैठकों का दौर चल उठा. दोस्त देशों को सूचना दे दी गयी. पाकिस्तान सरकार को आधिकारिक पत्र लिखा गया. और दिल्‍ली में मौजूद पाकिस्‍तान के राजदूत को तलब किया गया और कहा गया कि भारतीय पायलट अभिनन्दन को रिहा किया जाए.

हालांकि जेनेवा युद्ध संधि के मुताबिक़ पाकिस्तान के पास अभिनन्दन को रिहा करने के अलावा और कोई चारा नहीं था, लेकिन फिर भी भारतीय सरकार ने अपनी तरफ से कोई कसार नहीं छोड़ी. और पाकिस्तान पर दबाव बनाना बंद नहीं किया. भारत ना तो अभिनन्दन की रिहाई से पीछे हटा और ना आतंकियों पर कार्रवाई की बात से.

कुछ इस्लामिक देशों को छोड़कर विश्व बहुत से बड़े, ताकतवर और मजबूत देश भारत के साथ खड़े थे. अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने यूनाइटेड नेशन में जैश- ए- मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वर्ल्ड टेररिस्ट घोषित करने का प्रस्ताव रख दिया.

दूसरी तरफ पाकिस्तान का दोस्त देश चीन भी आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान के खिलाफ होता नज़र आया. क्योंकि चीन के वुझेन में अमेरिका, चीन और रूस के बीच आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होने की बात हुई थी. यूनाइटेड नेशन ने भी आतंकवाद पर लगाम लगाने की बात कई बार कही है.

आतंकवाद के मुद्दे पर सार्क समिट में भी पाकिस्तान की स्थिति अच्छी नहीं है. यहाँ तक कि साउदी अरब जिसने हाल ही में पाकिस्तान की फाइनेंसियल मदद की थी, वो भी आतंकवाद के खिलाफ है. कुछ मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो प्रिंस सलमान ने भी पाकिस्तान पर अभिनन्दन को रिहा करने का दबाव बनाया.

इसके अलावा ये बात तो आप जानते ही होंगे कि फाइनेंसियल एक्शन टास्क फ़ोर्स यानी एफएटीएफ ने पाकिस्‍तान को पहले से ही ग्रे लिस्‍ट में रखा हुआ है. और पाकिस्‍तान को इस बात का भी डर सता रहा है कि उसे ब्‍लैकलिस्‍ट ना कर दिया जाए.

और आखिर में एक वज़ह ये कि इंडियन एयरफोर्स की तरफ से पाकिस्तान के बालाकोट में जो झलक दिखाई गयी उसका खौफ़ भी रगों में अभी तक बाकी ही होगा. डर तो होगा ही कि ओसामा बिन लादेन के वक़्त अमेरिका की तरफ से जो किरकिरी हुई थी, वो फिर से भारत की तरफ से भी ना हो जाए. क्योंकि अगर भारत की झलक इतनी खतरनाक थी तो पूरी झांकी कैसी होगी.

कुल मिलाकर पाकिस्तान चारो तरफ से घिरा हुआ है. और यही चारो तरफ से पड़ रहा यही दबाव वो वज़ह है जिसके चलते विंग कमांडर अभिनन्दन आज भारत वापस आ रहे हैं. जेनेवा युद्ध संधि और बाकी के सभी दबावों ने पाकिस्तान को इतना मज़बूर कर दिया कि उसे पाकिस्तान को रिहा करना पड़ रहा है.

लेकिन पाकिस्तान ऐसे दिखा रहा है जैसे वो बड़ा दयालु है, वो युद्ध नहीं चाहता, और इसी वज़ह से वो विंग कमांडर अभिनन्दन को रिहा कर रहा है.

विंग कमांडर अभिनन्दन को आज रावलपिंडी के आर्मी हेडक्वार्टर से लाहौर लाकर इंटरनेशनल कमिटी ऑफ़ रेड क्रॉस को सौंप दिया जाएगा. यहाँ से उन्हें अमृतसर के वाघा- अटारी बॉर्डर ले जाया जाएगा. और इसी रास्ते से अभिनन्दन की घर वापसी होगी. एयरफोर्स अधिकारियों की एक टीम और अभिनन्दन के पेरेंट्स उन्हें रिसीव करने करने के लिए यहाँ मौजूद रहेंगे.

उनके वापस आने की खबर मिलने के बाद से ही पूरा देश निडर अभिनन्दन के घर आने के इंतज़ार में है. और उनका अभिनन्दन करने को तैयार है.

देखिये वीडियो: