चीन को अपनी लड़कियां बेचने पर क्यों मजबूर हुआ पाकिस्तान

5984

चीन से लिए गए कर्ज में डूबा पाकिस्तान अब चीन की चालों में बुरी तरह फंसता जा रहा है. कहते हैं कर्ज में डूबा इंसान खुद को भी गिरवी रख सकता है. पाकिस्तान के साथ भी कुछ ऐसा ही होने वाला है क्यूंकि अब पाकिस्तान से ये खबरें आयीं हैं कि पिछले 2 सालों में करीब 629 पाकिस्तानी लड़कियों को चीनी अपने साथ चीन लेकर गए हैं. शादी करके, झांसा देकर, और खबरें तो ये भी चल रही हैं कि ये चीनी इन पाकिस्तानी लड़कियों को ले जाकर शहरों में वैश्या’वृत्ति के काले काम में डाल देते हैं.

सस्ते में खरीदीं गयीं इन पाकिस्तानी लड़कियों की वहां कोई कीमत नहीं है. इन खबरों को बल इस बात से और भी मिलता है कि चीन में ऐसे ही मामलों में 21 चीनियों पर अदालत में सुनवाइयां भी चल रहीं हैं. चीन में पाकिस्तानी महिलाओं को बेचने का धंधा बड़े स्तर चल रहा है.. ऐसा इसलिए भी होता है क्यूंकि पाकिस्तान के जिस हिस्से से महिलाओं के बेचे जाने की ख़बरें आ रहीं हैं उस हिस्से में ज्यादातर गरीब लोग रहते हैं. और ऐसे ही जगहों को टारगेट करके चीन ह्युमन ट्रैफिकिंग का हथकंडा अपना रहा है. अगर पाकिस्तान सरकार के कुछ आंकड़ों पर गौर करें तो 2018 से अबतक पाकिस्तान से करीब 629 महिलाओं को चीन ले जाकर बेचा गया है.

लेकिन इस मामले पर सरकार का कोई ठोस रुख नहीं अपना पायी है, उसकी वजह पाकिस्तान और चीन की दोस्ती को भी माना जाता है.. चीन को खुश करने के चक्कर में पकिस्तान इस चीन की इस हरकत को रोक नहीं रहा है. पाकिस्तान में भी देह वयापार का धंधा बड़े स्तर पर होता है.. और यही व्यापारी महिलाओं को बेच देते हैं. एसोसिएट प्रेस की अगर मानें तो देह व्यापार का ये धंधा पाकिस्तान की लड़कियों का जीवन बर्बाद कर रहा है. चीन के लडके इसके लिए झूठी शादी का झांसा देकर ग़रीब परिवारों को जाल में फंसाते हैं.. लेकिन अब सामाजिक संस्थाओं और NGO’s के आगे आने के बाद अधिकारियों व पुलिस पर दबाव बनाया जा रहा है कि वो ह्यूमन ट्रैफिकिंग से जुड़े हुए तमाम उन अपराधों की जाँच करें जो अबतक किसी लापरवाही की वजह से लंबित पडे हुए हैं….

लेकिन चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा कि हम दोनों देशों के नियमों व शर्तों का अनुकरण और पालन करते हुए पाकिस्तान और चीन के लोगों बीच होने वाली शादियों को ‘हैप्पी फैमिली फॉर्मेशन’ के तहत सपोर्ट करते हैं… साथ ही मंत्रालय ने इस बात को भी जोड़ा कि ऐसी ही अवैध शादियों के ख़िलाफ़ चीन के मंत्रालय ने कड़ा रुख अपनाया हुआ है. और अगर ऐसी ही और घटनाएं सामने आतीं है तो वो उसपर कार्रवाई भी करेंगे..