वकील काला और डॉक्टर सफेद कोट क्यों पहनते हैं ?

1253

यूं तो अदालत और अस्पताल दोनो ऐसी जगह है जहां कोई भी इंसान जल्दी से नही जाना चाहता पर ये भी अटूट सत्य है कि सबको कभी ना कभी इन दोनो जगहों पर जाना ही पड़ता है।

आपने कई दफा देखा होगा कि दुनिया भर में डॉक्टर सफेद और वकील काले कोट में ही दिखाई पड़ते हैं। पर क्या कभी आपने सोचने की कोशिश की है कि आख़िर वकील काले और डॉक्टर सफेद कोट में ही क्यों दिखाई देते है??
नही सोचा तो चलिए आज आसान शब्दो मे हम आपको वहीं बताएंगे।
सबसे पहले बात करेंगे वकील साहब की ।


वकील क्यों पहनते है काला कोट.

दुनिया मे वक़ीलों के ब्लैक कोट पहनने की परंपरा दुनिया भर में उस वक्त शुरू हुई जब 1685 में इंग्लैंड के शाही परिवार ने कोर्ट को किंग्स चार्ल्स द्वितीय की मौत होने पर ब्लैक यूनिफार्म पहनने का आदेश दिया बस तभी से ही दुनिया भर की अदालतों  में ब्लैक कोट पहनने का आगाज़ हो गया। अब हमारे देश की न्यायपालिका भी इससे अछूती नही रही और 1961 में भारत के भी वकीलों को कह दिया गया कि अबसे आप लोग रोज़ काले कोट में ही आए।
इसके अलावा काले कोट को पहनने के पीछे कुछ लॉजिक और भी बताए जाते हैं।
कहा जाता है कि जैसे पुजारी भगवा या काला कुर्ता पहनके भगवान के प्रति सम्मान प्रकट करते हैं उसी तरह वकील काला कोट पहनकर न्याय के प्रति अपने समपर्ण को शो करते हैं।


काला कोट अनुशासन और कॉन्फिडेंस का प्रतीक माना जाता है।

काले रंग को ताकत और अधिकार के सिंबल के तौर पर भी देखा जाता है। यानी काला कोट वकील के भौकाल को टाइट करता है ।
इसके अलावा ये भी कहा जाता है कि पुराने टाइम में कलर बहुत ज्यादा संख्या में मौजूद नही थे तो इसलिए ब्लैक कलर को चुन लिया गया।

तो ये थे वकील के काला कोट पहनने के कुछ कारण अब बात करते हैं डॉक्टर साहब के सफेद कोट पहनने की।

दरअसल सफेद रंग डॉक्टर के कमिटमेंट को शो करता है। इसलिए डॉक्टर इस सफेद कोट यानी एप्रन को पहनते है जो कि घुटनो तक लम्बा होता है। ये अंग्रेजो के  ज़माने से ही चलन में है।
इस लांग कोट को पहनने के कुछ और भी कारण होते हैं जो निम्न है ।
1) सफेद रंग डॉक्टर की शांति और ईमानदारी को शो करता है।

2) सफेद रंग मरीज की आंखों को भी सुकून देता है और उसको विश्वास हो जाता है की उसकी जान बचाने वाला कोई तो है।
3) इस सफेद कोट में काफी गहरी जेब भी होती है जिसमे वो मेडिकल से जुड़े सामान को रखकर भी घूमते हैं। 
4) सफेद रंग शरीर के तापमान को नॉर्मल बनाए रखने में हेल्पफुल होता है।
तो ये थे वो सारे कारण जिसके चलते डॉक्टर्स को सफेद और वकील को ब्लैक कोट पहनना पड़ता है।

ख़ैर,उम्मीद है आपको हमारी ये जानकारी अच्छी लगी होगी।