अब महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के करीब बैठने को लेकर महाभारत, भिड़ गए दो वरिष्ठ मंत्री

1343

महाराष्ट्र में सरकार तो बन गई लेकिन उसकी मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही. रोज किसी न किसी बात पर रोज बखेड़ा खड़ा होता है. मंत्रिपद बंटवारे पर मची रार अभी ख़त्म भी नहीं हुई थी कि एक बार फिर तनातनी बढ़ गई. लेकिन इस बार वजह जान कर आप हैरान रह जायेंगे. इस बार वजह है सिटिंग अरेंजमेंट. मंत्रियों को अब सिटिंग अरेंजमेंट से समस्या है. मंत्री अब इस बात पर भिड़ गए कि कैबिनेट मीटिंग के दौरान मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बगल में कौन बैठेगा. मतलब ये कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के करीब बैठने को लेकर अब महाभारत शुरू हो गई है.

मंगलवार को कैबिनेट मीटिंग के दौरान कांग्रेस नेता और कैबिनेट मंत्री अशोक चव्हाण और एनसीपी नेता छगन भुजबल में बैठने को लेकर बहसबाजी हो गई. दरअसल मुख्यमंत्री जब कैबिनेट मीटिंग की अध्यक्षता करते हैं तो उनके आसपास बैठने वाले मंत्रियों को उनकी वरिष्ठता के आधार पर सीट आवंटित की जाती है। दरअसल मुख्यमंत्री जब कैबिनेट मीटिंग की अध्यक्षता करते हैं तो उनके आसपास बैठने वाले मंत्रियों को उनकी वरिष्ठता के आधार पर सीट आवंटित की जाती है. लेकिन इस बार परंपरा को ताक पर रख कर मुख्यमंत्री के करीब बैठने को लेकर बहसबाजी हो गई.

छगन भुजबल को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के करीब बैठाए जाने से कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण नाराज हो गए. अशोक चव्हाण का कहना था कि चूँकि वो पूर्व मुख्यमंत्री है तो उन्हें ज्यादा महत्त्व मिलना चाहिए. इससे पहले मंत्रिमंडल में बंटवारे को लेकर हाहाकार मचा था. अब्दुल सत्तार तो जूनियर मंत्री बनाए जाने से इतने नाराज हो गए कि उन्होंने मंत्रिमंडल से दो दिनों के बाद ही इस्तीफ़ा दे दिया.