आखिर कौन है मदन गोपाल?

कहते है राजनीति में जब लोग  ऊचाईया छूने  लगते है तब वह ज़मीनी हकीकत से बेखबर हो जाते है… अपने शुरूआती दिनों के संघर्ष और साथी को बहुत कम लोग याद रखते है … नहीं तो अक्सर लोग भूल हीं जाते है… लेकिन  नरेंद्र मोदी उन नेताओं में से एक हैं जो अपने पुराने साथियों को कभी भूलने नहीं… नरेंद्र मोदी की यह खासियत एक बार और तब सामने आई जब मंगलवार को मोदी अपने 30 साल पुराने साथी मदन गोपाल उर्फ चाचा जी से मिले पहुंच गए…

वैसे कौन है ये मदन गोपाल गुप्ता ?

मदन गोपाल 75 साल के चंडीगढ़ भारतीय जनता पार्टी कार्यालय के प्रभारी हैं…. इन्हें लोग प्यार से चचा jee भी कहते है… इनके  दो बेटे हैं जो सरकारी नौकरी करते है… 1971 में बीएसएफ से सूबेदार के पद पर रिटायर हुए मदन गोपाल गुप्ता भारतीय जनता पार्टी से जुड़ गए…..

वैसे नरेद्र मोदी और मैडम गोपाल गुप्ता की दोस्ती कसे हुई?

तो हम आपको बता दें कि जब नरेंद्र मोदी पार्टी के क्षेत्रीय प्रभारी थे तो उनका चंडीगढ़ में अक्सर आना-जाना होता था…. उस वक्त चाचा जी उनकी बैठकों का आयोजन किया करते थे….. यहां तक कि दरी बिछाने से लेकर  चाय की व्यवस्था करने तक … सभी काम वही देखा करते थे…और उनके पसंदीदा दाल- चावल बनाने में भी मदद करते थे……

मंगलवार को चंडीगढ़ में प्रधानमंत्री जिन 6 लोगों से मिले उनमें मदन गोपाल गौतम भी थे… प्रधानमंत्री ने जहां 5 लोगों से हाथ मिलाया, वहीं जैसे ही मदन गोपाल दिखे उन्हें गले लगा लिया……. उन्होंने मदन गोपाल का हाल-चाल लिया…..और उनसे  उनके बच्चों के बारे में भी पूछा … मोदी ने उन्हें चुनाव के बाद दिल्ली आने का न्योता भी दिया है  ……

हालांकि चंडीगढ़ भाजपा के अध्यक्ष संजय टंडन ने यह बताया कि मदन गोपाल गौतम एक कर्मठ पार्टी  कार्यकर्ता हैं…. और 75 साल की उम्र पार करने के बाद भी पार्टी के प्रति समर्पण से काम करते हैं….

संजय टंडन ने कहा, ‘प्रधानमंत्री से मिलने के बाद मदन गोपाल के घर दिवाली जैसा माहौल है. केवल उनमें ही नहीं  प्रधानमंत्री के इस जज्बे से चंडीगढ़ के हर पार्टी कार्यकर्ता में उत्साह पैदा हुआ है. मोदी इतने बड़े पद पर रहते हुए भी जिस तरह आम पार्टी कार्यकर्ताओं से मिलते हैं. उससे उनके मन में पार्टी के प्रति जोश पैदा होता है..’

वैसे आपको बता दें कि मदन गोपाल गौतम हरियाणा के कालका से हैं लेकिन अपने परिवार के साथ चंडीगढ़ में ही रहते हैं….. जब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे, तब मदन गोपाल ने गुजरात जाकर उनके लिए काम किया था…….. नरेंद्र मोदी जब प्रधानमंत्री बनने के बाद हिमाचल प्रदेश के ऊना में आए तो वहां भी उन्होंने हेलीकॉप्टर से उतर कर चाचा जी से मुलाकात की थी…… 75 साल के मदन गोपाल गौतम प्रधानमंत्री से मिलने के बाद बेहद उत्साहित हैं और उनको फिर से प्रधानमंत्री के पद पर देखना चाहते हैं. उनको पूरी उम्मीद है कि प्रधान की नरेंद्र मोदी एक बार फिर से देश की बागडोर संभालेंगे………

लेकिन हमे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दोस्ती निभाना सीखना चाहिए… क्योंकि आज कल के दौर में कौन किसको याद रखता है…

Related Articles