कब ख़त्म होगा कोरोना का प्रकोप.. जानिए क्या कहता है ज्योतिष इस बारे में

911

चीन से निकलने के बाद कोरोना वायरस पूरी दुनिया में कोहराम मचा रहा है. इस वायरस से अब तक 20 लाख से अधिक लोग संक्रमित है जबकि 1.37 लाख लोग अपनी जान गँवा चुके हैं. अब तक इस वायरस का कोई तोड़ नहीं मिल पाया है. दुनिया भर के वैज्ञानिक कोरोना की वैक्सीन तैयार करने में जुटे हैं.लेकिन कोई नहीं जानता कि कब तक इसका सही वैक्सीन तैयार हो पायेगा और कब तक कोरोना पूरी दुनिया से ख़त्म होगा. लेकिन ज्योतिष शास्त्र की गणना कुछ और कहती है. ग्रहों की गणना और आंकलन करने के बाद ज्योतिष शास्त्र का कोरोना के बारे में क्या अनुमान है आइये जानते हैं.

ज्योतिषीय गणना के अनुसार, शनि, राहु और केतु ये तीनों ग्रह अप्रत्याशित परिणामों के कारक हैं. शनि जब जब अपनी स्वराशि में आता है तो भयानक परिणाम होते हैं, वो अप्रत्याशित घटनाओं को पैदा करता है. वर्तमान में शनि अपनी स्वराशि मकर में स्थित है. इस साल 24 जनवरी को यह इस राशि में आया था. 22 मार्च को मंगल ने शनि की राशि मकर में प्रवेश किया और परिस्थितियां गंभीर हो गई. याद कीजिये. उसी के बादतबलीगी जमात का मामला सामने आया और देश में कोरोना के केस बहुत तेजी से बढ़ते चले गए. जबकि लॉकडाउन लागू था.

साल 1312 में जब शनि मकर राशि में आया था तब पूरा यूरोप प्लेग महामारी से ग्रसित हो गया था. इस महामारी से 7.5 करोड़ लोगों की जान गई थी. उसके बाद 1666 में भी शनि का मकर राशि में प्रवेश हुआ था और इस दौरान प्लेग के कारण केवल लंदन की 20 फीसदी आबादी खत्म हो गई थी. इस बार भी ऐसा ही हुआ है. पूरी दुनिया कोरोना से तबाह होने के कगार पर खड़ी है. लेकिन अब कोरोना का अंत निकट आने वाला है. ज्योतिष गणना के अनुसार मंगल का मकर से कुंभ राशि में प्रवेश कोरोना का काल बनेगा. 4 मई 2020 को मंगल मकर से कुंभ राशि में प्रवेश करेगा और तब कोरोना कमजोर होना शुरू हो जाएगा. लेकिन तब तक सावधानी से ही अपना बचाव करना होगा.