370 के खत्म होते ही भड़के पाकिस्तानी कही ये बात

3717

जम्मू-क’श्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले धारा-370 के प्रावधान खत्म कर दिए गए हैं. देश के नए गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर को लेकर सरकार का संकल्प पत्र पेश किया. मोदी सरकार के इस फैसले के बाद पाकिस्तान में अफ’रातफरी मच गई. कई सरे पाकिस्तानी नागरिक सोशल मीडिया पर इमरान सरकार से कुछ करने की अपील कर रहे हैं वहीँ कुछ अब भी ‘क’श्मीर हमारा है’ के नारे लगा रहे हैं.

पा’किस्तान के ज़्यादातर बड़े अखबारों में कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करने की खबर को headlines में जगह दी गई है. पाकिस्ता’नी के सबसे बड़े अखबार डॉन ने अपने फ्रंट पेज पर लिखा “अपोजिशन के पुरजोर विरोध के बीच भारत ने कश्मीर के स्पेशल स्टेटस खत्म करने के लिए संकल्प पेश किया गया. वही “पा’किस्तानी अखबार ‘द न्यूज’ ने एक लेख में कहा गया की, अब पा’किस्तान इंटरनेशनल कोर्ट में जाने की बात सोच सकता है. पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे में एक्टिव रहा है और हम इस पर शांत नहीं बैठ सकते हैं.

फिलहाल पाकिस्तान की जनता सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा निकाल रही है. UK में रहने वाले लार्ड नज़ीर अहमद ने लिखा की भारत का अपनी सुरक्षा बलों के दम पर धरा हटवाना इस बात का सबूत है की भारत में कश्मीर का विलय झूठा था. भारत को 7 लाख जवानों की जरुरत पड़ी ताकि वो इस धारा को हटा सकें. इस पर एक भारतीय ने मीम के ज़रिये जवाब दिया. जिसमे लिखा था” हर कोई कश्मीर मुद्दे पर कुछ ऐसा बर्ताव कर रहा है” हाँ मै मेरे को सब आता है मई एक्सपर्ट हु.” आमरा नाम की एक यूजर ने लिखा, “जिन्ना साहब माफी, पाकिस्तान के हमारे कथित प्रतिनिधि एक-दूसरे से लड़ाई करने और अपनी संपत्ति बढ़ाने में ही व्यस्त रह गए. आपका कश्मीर चला गया.”

वहीं एक यूजर नवीद ने लिखा, “अब हमे दुसरे बुर’हान वानी की ज़रूरत हैं.”

एक पाकिस्तानी यूजर ने लिखा,” जो कश्मीर की आवाज था हमने उसे ही जेल में बंद कर के रखा है, इस लिए भारत अपने मंसूबों में कामयाब होगया हैश टैग रिलीज़ हाफि’ज़ सई’द.”

इस वक्त शैलजा रशीद का 3 साल पुराने ट्वीट जम कर शेयर किया जा रहा है जिसमे उन्होंने लिखा था की ट्रॉल्स की ही तो हुकूमत है, बोलो ट्रॉल्स के पापा से अगर है हिम्मत तो हटा के दिखाए 370″ अब इस धरा के हटने के बाद रशीद जी काफी नाराज़ हैं वो इस धरा के हटने पर इसको कोर्ट में चुनौती देने वाली हैं.

कुछ चुनिंदा लोगों को छोड़ कर बाकी के देशवासियों में ख़ुशी की लहर हैं, इस वक्त लोग श्यामा प्रसाद मुखर्जी बाल ठाकरे और अटल विहार बाजपाई को याद कर रहे है जिन्होंने कश्मीर को पूर्ण रूप से आज़ाद करवाने का सपना देखा था, मगर आज जब ये सपना पूरा हुआ तो वो हमारे बीच मौजूद नहीं है.