अंग्रेजो ने हमें दी थी धारा 144, जानिए कैसे होती है इस्तेमाल

1781

भारत में इस वक़्त हालात बेहद ख़राब बने हुए हैं इसका कारण ये है कि भारत सरकार ने CAA लागू कर दिया है.जिससे पुरे देश में आगजनि और हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं. इसको देखते हुए प्रदेश की सरकारों ने प्रदर्शन और हिंसा को रोकने के लिए धारा 144 लगाई है. दिल्ली में शुक्रवार को धारा 144 का कुछ लोगो ने पालन नही किया जिसकी वजह से पुलिस ने उनको पकड़ लिया है.

वहीँ पूरे उत्तर प्रदेश में धारा 144 लगी हुई  है और कर्नाटक के कुछ जिले में भी धारा 144 लागू कर दी गई है. देश के कई हिस्सों में धारा 144 लगाई गई है. इस धारा को न मानने वाले लोगो को पुलिस ने हिरासत में लिया है.

धारा 144 का मतलब ये होता है की अगर प्रदेश में किसी तरह की हिंसा होने की सम्भावना हो या होने वाली हो तो डीएम,एसडीम या फिर एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट को ये अधिकार मिला है कि वो कानून व्यवस्था बिगड़ने पर प्रदेश में इस धारा को लागू कर सकता है,ताकि प्रदेश की कानून व्यवस्था  को बिगड़ने ना दिया जाये.

इस धारा का मतलब ये है कि इसके लगने के बाद 4 लोग एक साथ न कही जा सकते हैं और न ही एक जगह खड़े हो सकते हैं  या आप ये कह सकते हो की एक स्थान पर 4 लोग एक साथ एकत्रित  नही हो सकते हैं  और जहाँ पर ये धारा लगाई जाती है. उस स्थान विशेष पर प्रदर्शन करने की अनुमति नही होती है.

प्रशासन धारा 144  का प्रयोग किसी कानून के उलंघन की  आशंका होने पर भी कर सकता है.ये कानून राज्य सरकार और स्थानीय पुलिस को उनके अपने अधिकार भी देता है. जैसे की लोगो की सुरक्षा,कानून व्यवस्था ,संभावित खतरे को देखते हुए या किसी एक आदमी को प्रतिबंधित करने क लिए भी उपयोग कर सकता है. इसका उल्लंघन करना कानूनी जुर्म है,

धारा144 की बात करें तो कई जगह पर फ़ोन नेटवर्क,केबल सर्विस और इन्टरनेट सर्विस भी बंद करवा दी जाती है ताकि वहां  पर हिंसा को बढ़ावा न मिले और उसको वहीँ पर रोक दिया जाये.  इस वक़्त उत्तर प्रदेश में और पश्चिम बंगाल में भी ये धारा लागू है.