पंजाबी कलाकार किसान आंदोलन की आड़ ले कर और खुद को फौजी बता कर भड़का रहा था सैनिकों को, लेकिन खुल गई पोल

162

कृषि बिल के खिलाफ किसानों का आंदोलन अब भी जारी है. सरकार बातचीत के जरिये मसले को सुलझाने की कोशिश कर रही है. लेकन ऐसा लगता है कि कुछ लोग नहीं चाहते कि ये मसला सुलझे. किसान आंदोलन के बहाने देश में अशांति और बगावत फैलाने के एजेंडे पर भी काम हो रहा है. इसी एजेंडे के तहत पिछले दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमे एक शख्स फौजी वर्दी पहने हुए और खुद को फौजी बताते हुए सैनिको को भड़का रहा था. लेकिन उसकी पोल खुल गई.

वीडियो ने नज़र अ रहा शख्स किसान आंदोलन की आड़ ले कर फौजियों को भड़काने की कोशिश कर रहा था. वीडियो में ये शख्स कह रहा है, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी मैं आपसे एक बात कहना चाहता हूं, ये जो मैंने यूनिफॉर्म पहनी है कुछ दिनों पहले मैं चाइना के बॉर्डर पर खड़ा था तो मैं बहुत बड़ा देशभक्त था. इस वर्दी को उतारकर जब मैं दिल्ली बॉर्डर पहुंचा तो मैं बहुत बड़ा देशद्रोही हो गया, आतंकवादी हो गया, खालिस्तानी हो गया. इस नाम से नवाजा गया है मुझे. मैं आपको एक सलाह देना चाहता हूं कि किसी भी रेजीमेंट जाट , सिख रेजीमेंट के दिलों में क्या चल रहा है. किसी जवान के घर में अगर कोई परेशानी आ जाती है तो ड्यूटी करने में मन नहीं लगता और आपने तो आग लगा दी है इनके घरों में तो क्या ड्यूटी करेंगे वो. उन जवानों के घर वाले दिल्ली में अपना हक मांगने के लिए बैठे हैं, ठंड से मर रहे हैं. आपको कुछ दिखाई नहीं दे रहा आपको सिर्फ बिजसेन मैन दिखाई दे रहे हैं. कौन से बिजमेस मैन का बच्चा आर्मी में हैं. अगर उन्हीं किसानों के बच्चे बॉर्डर से लौटकर उनके लिए लड़ने आ जाएं तो क्या आप चीन और पाकिस्तान से सेना लेकर आओगे.

लेकिन बाद में पोल खुल गई कि ये शख्स न तो सेना का जवान है और न किसान है बल्कि ये शख्स तो पंजाबी कलाकार गोल्डी मनेपुरिया है जो कई पंजाबी म्यूजिक वीडियो में काम कर चुका है. उसके कई वीडियो यूट्यूब पर मौजूद हैं. अपने इस भड़काऊ वीडियो को उसने अपने फेसबुक पेज पर भी शेयर किया था. वो किसान आंदोलन की आड़ लेकर देश में फूट डालने की कोशिश कर रहा था. इस फर्जी सैनिक के वीडियो को स्वरा भास्कर ने भी शेयर किया था. हाल के दिनों में किसान आंदोलन के दौरान कई से विवादास्पद और भड़काऊ भाषण सुनने को मिले हैं जिसके बाद इस आंदोलन की मंशा पर सवाल उठने लगे हैं.