कभी फौज़ के खाने को खराब कहने वाले तेज़ बहादुर खराब बातें कर रहे हैं

408

साल 2019 है, मई का महीना है. धूप, लपट, गर्मी अपने पूरे शबाब पर है और साथ ही शबाब पर है लोकसभा चुनाव. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछली बार की तरह ही इस लोकसभा चुनाव में भी महादेव और माँ गंगा की नगरी वाराणसी से मैदान में उतरे हैं. उनसे टकराने के लिए समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन की तरफ से तेज बहादुर यादव को अपने प्रत्याशी के रूप में उतारा जा रहा था.

ये तेज़ बहादुर यादव बीएसफ के वही जवान हैं जिन्होंने सेना में खराब खाना मिलने की शिकायत करता हुआ अपना एक वीडियो सोशल मीडिया पर डाला था. इस वीडियो ने उन्हें रातों-रात फेमस बना दिया था, लेकिन उनके इसी वीडियो ने उन्हें बीएसफ से बर्खास्त भी करा दिया था.

तेज बहादुर यादव प्रधानमंत्री मोदी के सामने मैदान में उतरते उससे पहले ही चुनाव आयोग ने उनके और समाजवादी पार्टी दोनों के सपनों पर पानी फेर दिया. नामांकन पत्रों की जांच में निर्वाचन अधिकारी ने कुछ कमियाँ पाईं और तेज बहादुर यादव के नामांकन को रद्द कर दिया. उनका नामांकन रद्द हो जाने के बाद उनकी जगह फिर से मैदान में आ गईं कांग्रेस छोड़कर सपा में शामिल हुई शालिनी यादव. शालिनी यादव के मैदान में आते ही तेज बहादुर उनके लिए जोर-शोर से प्रचार करने में व्यस्त हो गए.

ये सब चल ही रहा था कि तेज बहादुर यादव का एक नया कारनामा समाने आ गया. सोशल मीडिया पर फिर से तेज बहादुर यादव का एक वीडियो वायरल हुआ. लेकिन ये वीडियो किसी शिकायत का नहीं है, देशभक्ति का नहीं है, हीरो बन जाने का नहीं है, बल्कि ये वीडियो तेज बहादुर का अपने दोस्तों के साथ बैठकर शराब पीने का है.

आपको शायद लग रहा होगा कि वीडियो सिर्फ इसलिए वायरल हुआ होगा क्योंकि तेज बहादुर उसमें शराब पी रहे हैं, लेकिन ऐसा नहीं है. ये वीडियो शराब पीने की वज़ह से नहीं बल्कि उस दौरान हो रही उनकी बातों की वज़ह से वायरल हुआ है.

इस वायरल वीडियो में तेज बहादुर यादव अपने साथियों के साथ नशे की हालत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मारने की बात कहते नज़र आ रहे हैं. वीडियो में तेज बहादुर यादव कुछ खाते हुए ये कहते सुनाई देते हैं कि,

’24 घंटे में गोली मरवा दूंगा, और बोल?’

इसके बाद उनके किसी साथी की आवाज़ सुनाई देती है, वो तेज बहादुर से पूछता है,

‘24 घंटे में आप मोदी को मरवा दोगे?’

तेज बहादुर हाथ हिलाते हुए जवाब देते हैं,

’50 करोड़ दिलवा दो बस.’

उनके उसी साथी की आवाज़ फिर से आती है,

’50 करोड़? हिन्दुस्तान में तो कोई देगा नहीं. पाकिस्तान से ही देगा.’

तेज बहादुर यादव फिर से जवाब देते हैं,

‘मैं ऐसा करूंगा नहीं. बाहर देश से कमाऊंगा नहीं. देश के प्रति वफादार हूँ.’

1 मिनट 20 सेकेंड के इस वीडियो को लोगों ने सोशल मीडिया पर जमकर शेयर किया है. लोग अलग-अलग कैप्शन के साथ इस वीडियो को शेयर कर रहे हैं.  कुछ मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो पता चलता है कि तेज बहादुर ने खुद इस बात को स्वीकार किया है कि इस वीडियो में वो ही हैं, और उनका ये वीडियो 2 साल पुराना है.

तेज बहादुर के दिल्ली पुलिस में एक दोस्त हैं पंकज शर्मा. रिपोर्ट्स कहती हैं कि ये वीडियो पंकज के ही घर का है. और पंकज ने ही इस वीडियो को वायरल किया है. इस वीडियो को शेयर करने की वज़ह से तेज बहादुर उनसे खासे नाराज़ भी हैं.

इसके अलावा एक तरफ तेज बहादुर अपने इन दोस्तों के खिलाफ नाराजगी जताई तो दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी के आईटी सेल पर भी इस वीडियो को वायरल करने का आरोप लगाया है. ये बातें कहती हैं कि तेज बहादुर अभी तक खुद पक्का कर सके हैं कि ये वीडियो कैसे वायरल हुआ है.

एक तरफ ये वीडियो वायरल हुआ और तेज़ बहादुर फंसते नज़र आए तो समाजवादी पार्टी तेज बहादुर के बचाव में उतर आई. दूसरी तरफ तेज बहादुर ने इसे भारतीय जनता पार्टी की चुनावी शाजिश करार दिया.

किसी की पर्सनल लाइफ का वीडियो  सोशल मीडिया पर आना अच्छा नहीं लगता. उस वीडियो का लगातार शेयर होना अच्छा नहीं लगता. लेकिन जब वीडियो में देश के प्रधानमंत्री को गोली मारने की बात की जा रही हो तो ये सब हो ही जाता है.

लेकिन इस वीडियो को देखने के बाद एक बात जो सबसे ज्यादा हैरान करती है वो यही है कि प्रधानमंत्री को गोली मारने की बात कर रहा इंसान कभी देश का सिपाही रह चुका है, और अभी के वक़्त एक बड़ी पार्टी का उम्मीदवार बन चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहा है.

देखिये हमारा वीडियो: