सोशल मीडिया पर सामने आये इस वीडियो के बाद ‘खुले में नमाज’ पढने को लेकर हुआ बवाल!

398


नमाज़ के इस वीडियो ने एक बार फिर धर्म और कानून को आमने सामने ला खड़ा किया है.

यह मामला है नोएडा के सेक्टर 58 का, जहाँ एक पार्क में नज़दीकी कंपनियों के कर्मचारी, इकट्ठा होकर रोज़ नमाज़ अदा किया करते थे. तारीख़ 7 दिसंबर को भी नमाज़ के लिए लोग इकट्ठा हो रहे थे लेकिन नमाज़ शुरू होने से पहले ही हिन्दू संगठन के कुछ लोगों ने वहाँ पहुंचकर, पब्लिक प्लेस पर इस तरह नमाज़ अदा करने का विरोध किया, और वीडियो बनाया.

वीडियो वायरल होने के बाद नमाज अता करने पर लगी रोक

वीडियो जब वायरल हुआ तो इस मुद्दे ने तूल पकड़ा और मामला जब सिटी मजिस्ट्रेट के पास पहुंचा तो उन्होने कोतवाली सेक्टर 58 की पुलिस को मामले की जांच का आदेश दिया. जाँच से पता चला कि मामला पूरी तरह सही है… पार्क में सामूहिक रूप से नमाज़ अता की जाती रही है… नमाज़ पर रोक लगाने लिए पुलिस सख़्ती से पार्क की निगरानी करने लगी और वहाँ नमाज़ अता करने से मना कर दिया।

“कानून व्यवस्था को बनाए रखने की नज़र से यह एक ठोस कदम “

इस मामले में पुलिस ने 22 कंपनियों को नोटिस भी भेजा जिनके वो कर्मचारी थे. फिलहाल पार्क में नमाज़ पर रोक लगी हुई है. मामला पूरी सरगर्मी पर है. मीडिया और सोशल मीडिया पर बयानों की होड़ लगी हुई है.

कोई कहता है कि कानून व्यवस्था को बनाए रखने की नज़र से यह एक ठोस कदम है, तो कोई इससे नाराज़ होकर कह रहा है कि “अगर नमाज़ बंद हुई है तो आरएसएस के शिविर भी बंद हों!” किसी ने कहा यह सांप्रदायिक तनाव शहर के लिए अच्छा नहीं, तो कोई बोला कि ना ही मिले सार्वजनिक स्थलों पर धार्मिक कार्यों के लिए अनुमति।

मामले को लेकर डीएम और एसएसपी ने कैंप कार्यालय पर पत्रकारों से बातचीत में कहा कि “सार्वजनिक स्थलों पर नमाज़ अदा करने की अनुमति नहीं दी जा सकती!” मुद्दा तपकर लाल है, और सभी लगे हुए हैं अपने- अपने बयानों की हथौड़ी के वार से उसे अपना मनमाना आकार देने की कोशिश में. वहीं अगर नियम और कानून की बात करें तो, सार्वजनिक स्थलों पर इस तरह के किसी भी आयोजन को, प्रशासन से अनुमति लिए बिना नहीं किया जा सकता।

देखिये ये वायरल वीडियो

नमाज़ नहीं पढ़ने देने पर इमाम और स्थानीय में हुई बहसबाज़ी का देखें viral video…| Dilli Tak

नोएडा के पार्क में नमाज पर पुलिस की रोक के बावजदू बवाल थमता नहीं दिख रहा है. अब असदुद्दीन ओवैसी मैदान में कूद पड़े हैं. ओवैसी ने ट्वीट करके कहा कि एक तरफ तो पुलिस वाले हेलीकॉप्टर से कांवडियों पर फूल बरसाते हैं और दूसरी तरफ हफ्ते में एक वक्त की नमाज से कानून-व्यवस्था और शांति को खतरा पैदा हो जाता है. इस बीच एक नया वीडियो भी सामने आया है, जिसमें नमाज से पहले इमाम और वीडियो बना रहे लोगों को बीच तनातनी हो जाती है.

Posted by Dilli Tak on Tuesday, December 25, 2018

मीडिया आपको इससे जुड़ी खबरें दिखाता, पढ़ाता और सुनाता रहेगा, लेकिन इस सबसे हटकर हमें चाहिए इस मुद्दे पर आपकी बेबाक राय… तो दोस्तों कमेन्ट में अपनी राय दें और अपने दोस्तों तक भी शेयर ज़रूर करें… ताकि हम जान सकें जनता की राय।