विजय माल्या आखिरकार, कानूनी तौर पर कर दिए गए भगोड़ा घोषित

290

भागों…भागों….खुब भागों….और मिलखा सिंह की तरह बन जाओं…भाई..मैने तो यही सुना था की भागनें से तो मेडल ही मिलते है….लेकिन सही दिशा में भागों तो….अगर देश का पैसा लेकर भागोगें तो घोषित किए जाओंगे आर्थिक भगोड़ा….जिसके बाद आपकी पूरी सम्पत्ति कर ली जाएंगी जब्त.

साल 2019 के पहले हफ्ते में शराब कारोबारी विजय माल्या को देश का पहला आर्थिक भगोड़ा घोषित कर दिया गया है..धन शोधन निरोधक अधिनियम यानि की PMLA के तहत बने स्पेशल कोर्ट ने मुंबई में विजय माल्या को भगोड़ा वित्तीय अपराधी घोषित कर दिया..भगोड़ा आर्थिक अपराधी अधिनियम यानि की एफईओए के तहत विजय माल्या का नाम देश के पहले भगोड़े आर्थिक अपराधी के रूप में दर्ज हो गया है….इस कानून के तहत अब विजय माल्या से जुड़ी संपत्तियां ईडी जब्त कर सकती हैं…..प्रवर्तन निदेशालय ने इसके लिए स्पेशल कोर्ट में अर्जी लगाई थी.

करीब साढ़े 9 हजार करोड़ रुपय लेकर भागने का आरोप विजय माल्या पर लगता रहा हैं….मार्च 2016 से ही विजय माल्या भारत से फरार चल रहे है…कई बैंकों ने उनपर लोन लेकर फरार होने का आरोप लगाया है…भारत सरकार काफी लंबे वक्त से विजय माल्या को भारत लाने की बहुत कोशिशें की है लेकिन वो अभी भी फरार है….विजय माल्या के आर्थिक भगोड़ा घोषित होना…ये सरकार के लिए उपलब्धि की बात है.

भाई…अब तो विजय माल्या को भारत लौट ही आना चाहिए….क्योंकि अब तो भारत में विजय माल्या जी को बहुत बड़ी उपलब्धि से नवाजा जा चुका है…भाई ये कोई छोटी उपल्बधि थोड़ी ही न है…भारत के पहले आर्थिक भगोड़ा का टैग मिलना…ध्यान दिजीएगां….पहला….

आईए जानते है की क्या है एफईओए कानून ?

एफईओए नया कानून है और काफी सख्त भी….वित्तीय घोटाला कर रकम चुकाने से इनकार करने वालों पर इस कानून के तहत कार्रवाई की जा सकती है…


इस कानून के तहत दर्ज अपराधी की सारी संपत्तियां जब्त करने का अधिकार है….

आर्थिक अपराध में जिनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया हो उन पर कार्रवाई का प्रावधान है….

100 करोड़ रुपए से ज्यादा के लोन डिफॉल्टर्स पर कार्रवाई की जा सकती है….

इस कानून के अनुसार जो व्यक्ति अपराध करने के बाद देश छोड़ गया हो और जांच के लिए कोर्ट में हाजिर न हो रहा हो, जिसके खिलाफ गैर-जमानती वॉरंट जारी हो चुका हो लेकिन विदेश भागने के कारण वह हाजिर न हो रहा हो, उसे भगोड़ा आर्थिक अपराधी ठहराया जा सकता है….

भगोड़े आर्थिक अपराधियों की संपत्तियां बेचकर भी कर्ज देने वालों की भरपाई का प्रावधान है….

ऐसे और भी है आर्थिक भगोड़े ?

सरकार ने पिछले साल संसद में ऐसे ही 28 आर्थिक भगोड़ों की जानकारी दी थी, जिनमें छह महिलाएं भी शामिल हैं. ऐसे बहुत से है जो हज़ारों करोड़ का चूना लगाकर देश से भाग गए…..

इसमें सबसे पहला नाम तो आप जान ही चुके होंगे विजय माल्या जी का है…..वहीं, पीएनबी घोटाले के आरोपी मेहुल चोकसी और नीरव मोदी इस लिस्ट में क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं….करोड़ के घोटाले में आरोपी स्टर्लिंग बायोटेक प्रमोटर चेतन संदेसरा, नितिन संदेसरा और दीप्तिबेन संदेसरा भी इसमें शामिल हैं…