विधु विनोद चोपड़ा की फिल्म शिकारा रिलीज होने से पहले ही चर्चाओं में थी. इसकी वजह थी कि फिल्म कश्मीरी पंडितों की त्रासदी पर आधारित थी. ;लेकिन जब फिल्म रिलीज हुई तो लोग ने खुद को ठगा हुआ महसूस किया. विधु विनोद चोपड़ा ने कश्मीरी पंडितों की त्रा’सदी दिखाने के नाम पर एक प्रेम कहानी दिखा दी और उनलोगों पर एक शब्द नहीं कहा जो कश्मीरी पंडितों पर हुए अ’त्या’चार के जिम्मेदार थे. फिल्म में ये दिखाया ही नहीं कि कश्मीरी पंडितों को किसने भगाया. जिस कारण दर्शकों ने इस फिल्म की खूब आलोचना की. सोशल मीडिया पर बायकॉट शिकारा ट्रेंड चलाया गया. फिल्म बॉक्स ऑफिस पर दम तोड़ गई और बुरी तरह से फ्लॉप रही.

फिल्म फ्लॉप होने के बाद विधु विनोद चोपड़ा ने अपनी चुप्पी तोड़ी और उन लोगों पर भड़क गए जिन्होंने फिल्म की आलोचना की थी. विधु विनोद चोपड़ा ने ऐसे दर्शकों को ‘गधा’ कह दिया. उन्होंने कहा कि उनकी फिल्म शिकारा की तारीफ़ टाइटेनिक और अवतार जैसी फिल्म बनाने वाले जेम्स कैमरून ने की. जेम्स कैमरून ने शिकारा को मास्टरपीस बताया लेकिन कुछ लोगों को फिल्म में प्रोपगैंडा दिख गया. ऐसे लोग गधे हैं.

उन्होंने कहा कि जिस फिल्म को बनाने के पीछे 11 साल की मेहनत लगी है, उसके बारे दर्शकों की राय अजीब है. उनका कहना है कि मैंने एक फिल्म बनाई जिसने पहले दिन 30 करोड़ कमाई और यह फिल्म जो मैंने अपनी मां की याद में बनाई है, उसने 30 लाख कमाई और लोग कहते हैं कि मैंने कश्मीरी पंडितों के दर्द को भुनाया है, उसका व्यवसायीकरण कर दिया.

उन्होंने कहा कि इस फिल्म के जरिये उन्होंने एकता का सन्देश दिया है. प्यार का सन्देश दिया है लेकिन लोग नफरत देखना चाहते थे.