कांग्रेस के बड़े नेता कर रहे थे हरियाणा चुनाव पर चर्चा, किसी ने वीडियो बनाकर कर दिया वायरल

1486

जब जब चुनाव नजदीक आते हैं कांग्रेस के नेता खुद ही अपने पैर पर कुल्हाड़ी मार लेते हैं ऐसा कहना बिलकुल गलत नही होगा.. देखिये ना अब हरियाणा में चुनाव होने वाले हैं और इससे पहले हरियाणा कांग्रेस की हालात ऐसी हो गयी है कि नेता आपस में ही लड़ रहे हैं यहाँ तक शीर्ष नेताओं की भी बातचीत अब इधर उधर ही होने लगी है..नमस्कार

एक वीडियो इस समय सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस वीडियो में हरियाणा के प्रभारी गुलाम नबी आजाद, सोनिया गाँधी के करीबी माने जाने वाले अहमद पटेल और हरियाणा कांग्रेस के बड़े नेता, पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा दिखाई दे रहे हैं. वीडियो गाँधी जयंती 2 अक्टूबर का माना जा रहा है. सारे नेता संसद में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे, उसी दौरान तीनों की बातचीत हुई थी. वीडियो में दिख रहा है कि अहमद पटेल पूछ रहे हैं कि रणदीप सूरजेवाला की पसंद से कितनी सीटें दी जा रही है. इस पर हुड्डा कहते हैं, 4 सीट सुरजेवाला के खाते में है, 6 अशोक तंवर और 4 किसी और के कोटे में गई है. इसपर अहमद पटेल कहते हैं कि और बाकी. तब हुड्डा कहते हैं कि बाकी की सब न्यूट्रल है. हुड्डा ये भी कह रहे हैं कि आपको भरोसा नहीं है तो बैठाकर बात कर लो.. और मुझे क्या मिला? इस पूरे बातचीत का वीडियो किसी ने अपने मोबाइल में बना लिया है. इस शख्स को अहमद पटेल रोकते हुए कहते हैं कि हो गया यार कितना फोटो लोगे… दरअसल उन्हें लगा कि उनका वीडियो नही बन रहा है बल्कि फोटो लिया जा रहा है. हालाँकि अगर इस वीडियो में हुई तीनों नेताओं की बातचीत को गौर से सुना और समझा जाये तो एक बात समझ आती है कि कांग्रेस अभी भी आपसी कलह से जूझ रही है. पार्टी में खींचतान चल रही है.

4 अक्टूबर को नॉमिनेशन की आखिरी तारीख है, लेकिन कांग्रेस अब तक उम्मीदवारों के नाम का ऐलान नहीं कर पाई है. ये तो रही इस वीडियो में दिख रही बातचीत.. लेकिन ये कहानी यहीं शुरू नही हुई.. बवाल तो उससे पहले से ही हो रहा है. दरअसल गांधी जयंती के दिन ही हरियाणा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अशोक तंवर अपने समर्थकों के साथ कांग्रेस मुख्यालय पर प्रदर्शन किया था और पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हु्ड्डा, गुलाम नबी आजाद सहित कई नेताओं के खिलाफ नारेबाजी की. मंगलवार को भी हालत यह हो गई कि हरियाणा के कांग्रेस पार्टी की कार्यवाहक राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष सोनिया गांधी के आवास के बाहर ही आपस में भिड़ गए. जैसे ही दिल्ली में बड़े नेताओं में चुनाव  को लेकर बैठक होती है.. कांग्रेस की दूसरी टीम वहां प्रदर्शन करने पहुँच जाती है. और जमकर नारेबाजी करती है. कांग्रेस गुटबाजी का शिकार हो चुकी है. कांग्रेस के ही नेता अब कांग्रेस को डुबोने पर लगे हुए…

एक तरफ जहाँ बीजेपी मनोहर लाल खट्टर की अगुवाई में एक जुट होकर चुनाव लड़ रही है, प्रचार प्रसार में लगी हुई है. वहीँ कांग्रेस के सभी नेता अभी चुप्पी साधे बैठे हुए हैं.. कोई बड़ा नेता प्रचार में नही उतर पा रहा है. ना राहुल गाँधी.. ना सोनिया गांधी.. ना priynka वाड्रा और ना ही सुरजेवाला, हुड्डा जैसे नेता सब गायब से क्यों हैं? इसकी सबसे बड़ी वजह है कि कांग्रेस में बवाल चल रहा है कुछ ठीक नही चल रहा है? कांग्रेस आतंरिक कलह से जूझ रही है यही वजह है कि कांग्रेस के बड़े नेता जहाँ भी मौका पाते हैं गिनने लगते हैं कि किसको कितनी सीटें मिल रही हैं? अगर यही हाल रहा तो ये सिर्फ गिनते ही रह जायेंगे कांग्रेस के नेता… फिर बाद में कहेंगें EVM फिक्स था? EVm हैक हो गयी है.. दुनिया भर के बहाने बनाये जायेंगे?

खैर इस खबर के बारे में आप क्या सोचते हैं कमेंट करके हमें बताइये