शराब के बाद अब तेल से इकॉनमी सुधारेंगे राज्य, इन राज्यों ने जनता को दिया तगड़ा झटका, 18 रुपये के पेट्रोल पर इतना टैक्स

2481

कोरोना और लॉकडाउन की वजह से खस्ताहाल इकॉनमी को सुधरने का रास्ता राज्यों को मिल गया है. ये रास्ता तेल और शराब के रास्ते गुजर रहा है. लॉकडाउन के तीसरे चरण में शराब दुकानें और ठेके खुल जाने के बाद राज्यों ने ताबड़तोड़ नोट छापे. इसके लिए सरकारों ने बड़ा रिस्क लिया और लोग भी लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ उड़ाते हुए राज्यों के खजाने भरते रहे. दिल्ली ने 70 प्रतिशत और आंध्र प्रदेश में 75% कोरोना टैक्स शराब पर लगाया लेकिन पीने वालों को कोई फर्क नहीं पड़ा. अब शराब के बाद बारी है तेल की.

भारत अपनी जरूरत का 85 फीसदी कच्चा तेल आयात करता है. इसलिए विदेशी बाज़ारों में जब कच्चा तेल का भाव बढ़ता है तो भारत में भी तेल महंगा होता है और जब कच्चा तेल का भाव विदेशी बाज़ार में कम होता है तो भारत में भी तेल का दाम कम होता है. बीते दिनों अमेरिका में कच्चे तेल की कीमत माइनस में पहुँच गई. भारत में भी तेल सस्ता होना चाहिए था लेकिन हुआ नहीं. सरकारों ने तेल को सस्ता कर आम लोगों को फायदा देने की बजाये अपना खजाना भरने का फैसला किया. मंगलवार को दिल्ली सरकार ने पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ा दिए. दिल्ली में अब 1.67 रूपये प्रति लीटर पेट्रोल और 7.10 रूपये डीजल पर बढ़ा दिए गए. ये बढ़ोतरी वैट के जरिये की गई जिसके बाद बुधवार 6 मई को दिल्ली में डीजल की कीमत 69.39 रुपये प्रति लीटर और पेट्रोल की कीमत 71.26 रुपये लीटर हो गई. अब तक पेट्रोल पर 27 फीसदी वैट लगता था और डीजल पर 16.75 फीसदी वैट लगता था. अब दिल्ली सरकार ने डीजल-पेट्रोल दोनों पर ही वैट बढ़ाकर 30 फीसदी कर दिया है.

इस समय दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल की कीमत एक्स फैक्ट्री कीमत या बेस प्राइस 17.96 रुपये है. उसके बाद बेस प्राइस में केंद्र सरकार एक्साइज ड्यूटी के रूप में 32.98 रुपये, ढुलाई खर्च 32 पैसे, डीलर कमीशन 3.56 पैसे और राज्य सरकार का वैट 16.44 रुपये जुड़ जाता है. राज्य सरकार का वैट डीलर कमीशन पर भी लगता है. इस तरह से पेट्रोल की कीमत दिल्ली में 71.26 रुपये प्रति लीटर तक पहुँच गई. मतलब कि दिल्ली वालों को 18 रुपये के पेट्रोल पर केंद्र और राज्य का मिला कर 49.42 प्रतिशत टैक्स देना पड़ता है. और इसके जरिये राज्य अपना खजाना भर रहे हैं. दिल्ली ही नहीं बल्कि हरियाणा और तमिलनाडु भी तेल के जरिये अपना खजाना भर रहे हैं. इन दोनों राज्यों ने भी लॉकडाउन 3 शुरू होते ही तेल पर टैक्स बढ़ा दिए