अमेरिका ने चीन को बताया भारत के लिए खतरा, कहा ‘जरूरत पड़ी तो निभाएंगे दोस्ती’

4324

भारत और चीन के बीच जारी तनाव की वजह से अमेरिका भी चिंतित है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के भारत और चीन के बीच मध्यस्थता की बात को भारत ने भले ही ख़ारिज कर दी हो लेकिन अमेरिका अपने दोस्त को इस संकट की घड़ी में अकेला छोड़ने को तैयार नहीं. अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा है कि चीन अपने फायदे के लिए पूरे इलाके में तनाव पैदा कर रहा है. उन्होंने कहा है कि भारत की सीमा पर चीन जो कर रहा है उसकी तैयारी उसने बहुत पहले से ही कर रखी थी.

माइक पोम्पियो ने कहा, ‘हमारा रक्षा मंत्रालय चीन के तरफ से खतरे को भलीभांति समझ रहा है. मुझे पूरा विश्वास है कि राष्ट्रपति ट्रम्प के नेत्रित्व में रक्षा मंत्रालय, हमारी सेना और और हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा व्यवस्था दुनिया के हर कोने में अमेरिकी लोगों की सुरक्षा करेंगे और अपने दोस्त भारत, ऑस्ट्रेलिया, जापान, ब्राजील, यूरोप के लिए अच्छे पार्टनर साबित होंगे. जरूरत पड़ी तो हम अपने दोस्तों से दोस्ती निभाएंगे.

चीन पर कारवाई को लेकर पोम्पियो ने कहा कि इस वक़्त अमेरिकी कांग्रेस में 60 से अधक बिल चीन के खिलाफ हैं. ज्यादातर बिलों को दोनों पार्टियों का समर्थन हासिल है. ये सभी बिल कांग्रेस में पास होने के बाद राष्ट्रपति के पास पहुंचेंगे. हालाँकि ये नहीं पता कि कौन कौन से बिल पहले पहुंचेगे उनके पास. उन्होंने बाताया कि पिछले हफ्ते उइगर मुसलमानों से सम्बंधित बिल राष्ट्रपति के पास पहुंचा. अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि चीन की कम्युनिस्ट पार्टी पश्चिमी और दुनिया की हर व्यवस्था को तबाह करना चाहती है. उसे रोकने के लिए जो भी कदा जरूरी होगा वो उठाया जाएगा उन्होंने कहा कि हीन के हरकतों की लिस्ट लंबी है अमेरिका के पास एक ऐसा राष्ट्रपति है जो अमेरिका और दुनिया को चीन के कम्युनिस्ट पार्टी से बचाने में सक्षम है