कोर्ट ने दिया निर्भया के दो’षि’यों को झटका, लेकिन कल फां’सी हो पाना मुश्किल

1936

निर्भया गैं’गरे’प के’स में 3 मार्च को फां’सी मुक़र्रर होनी है. लेकिन कानूनी दां’व पेंच के चलते फां’सी ट’ल’ती ही जा रही है. आये दिन कोई न कोई एक नया पें’च फं’स जाता है. जिसकी वजह से निर्भ’या गैं’गरे’प के दो’षि’यों की फां’सी आये दिन टल जाती है. इससे पहले कई बार कोर्ट ने चारों दो’षि’यों की फां’सी का दिन और तारीख तय की थी. लेकिन दो’षि’यों ने कोई न कोई नया बहाना निकल लेते है ताकि उनकी फां’सी आगे बढ़ जाए.

निर्भया गैं’गरे’प के’स और ह’त्या के दो’षि’यों को कल फां’सी होनी तय की गई थी. आपको बता दें जो चौथे दो’षी पवन की सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटिशन दायर की थी और उसको सुप्रीम कोर्ट ने ख़ारिज कर दी है. पवन ने अपनी अ’र्जी में कहा था कि ‘वह घटना के वक्त ना’बा’लिग था. इस मामले में उसकी रिव्यू याचिका पहले ही खारिज हो गई थी. 5 जजों की पीठ ने सर्वसम्मति से पवन की या’चि’का को खारिज कर दिया है.

बता दें कि जस्टिस एन वी रमन्ना, जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस रोहिंग्टन फली नरीमन, जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस अशोक भूषण आज सुबह 10:25 बजे याचिका की सुनवाई शुरू की और क्यूरेटिव पिटिशन की सुनवाई बंद कमरे में होती है. इस मामले में बाकी अन्य तीन दो’षि’यों की क्यूरेटिव पिटिशन खा’रिज की जा चुकी है. ऐसे में माना जा रहा कोर्ट इसे भी खारि’ज कर सकता है.

निर्भया के गुना’ह’गारों को 3 मार्च को फां’सी दिए जाने की तारीख तय की गई है. लेकिन कानूनी दां’व पें’च के चलते अब फिर से यही लग रहा है कि कही ऐसा ना हो कि निर्भया के’स में फां’सी की तारीख फिर से आगे बढ़ा दी जाये. क्योकिं जो दो’षी है वो नये तरीके अपना रहें है. ताकि उनकी फां’सी कुछ दिन और टल जाये. कुछ कानूनी जानकार का कहना है कि निर्भया के गु’नाह’गार पवन की क्यूरेटिव अ’र्जी ख़ा’रिज हो चुकी है. चूँकि अभी भी पवन के पास मर्सी पिटीशन दाखिल करने का भी मौका है. अगर ऐसा होता है तो शायाद एक बार फिर से दो’षि’यों की फां’सी टल सकती है. आपको बता दें अगर पवन के सारे दां’व पें’च ख़ारिज हो जाते है तो फिर जब सुप्रीम कोर्ट द्वारा दी गई अगली तारीख पर चारों दो’षि’यों को फां’सी पर लटकना तय है. लेकिन अभी इंतज़ार थोडा बढ़ सकता है परन्तु फां’सी होना तय है.