चीन से साइबर अ-टैक का ख’तरा, यूपी STF ने इन 52 चाइनीज एप्स को फोन से हटाने का दिया आदेश

3931

लद्दाख के हालात पर भारत में राजनीति तेज हो गई है. भारत के राजनीतिक दल हर मौके पर राजनीति करना जानते हैं. जब सरकार और देश के साथ एकजुटता से खड़े होने का वक़्त है. लद्दाख के गलवान घाटी में हुई झड़प के बाद अब भारत सरकार भी एक्शन में आ गयी है. सेना को तो पहले से ही खुली छूट दी हुई है. वहीँ अभी हाल ही में हुई झड़प के बाद दोनों देशों के बीच तनाव का माहौल बना हुआ है.

जानकारी के लिए बता दें लद्दाख के गलवान घाटी में हुई झड़प के बाद चीनी समानों के बहिष्कार करने की मांग भारत में तेज हो गयी है. वहीँ मोदी सरकार ने भी चीन को बड़ा झटका देते हुए रेलवे की तरफ से एक चीनी कंपनी को दिए गये करीब 500 करोड़ के ठेके को रद्द कर दिया है. इसी बीच अब बड़ी खबर उत्तरप्रदेश से आ रही है जिसे जानने के बाद आप भी सोच में पड़ जायेंगे.

उत्तरप्रदेश की स्पेशल टास्क फ़ोर्स ने एक कॉन्फिडेन्सिल लेटर जारी कर अपने सभी कर्मचारियों को 50 से ज्यादा चाइनीज ऐप हटाने के निर्देश दिया है. एसटीएफ ने एक इंटरनल लेटर जारी कर उन 52 चीनी ऐप्स को अनइनस्टॉल करने के आदेश दिए हैं. उनका मानना है कि इससे डाटा चोरी होने की संभावना ज्यादा रहती है जिसके चलते ये बड़ा फैसला लिया है. एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश से ये आदेश दिए हैं.

गौरतलब है कि एसटीएफ के आईजी ने अपने सभी कर्मचारियों के साथ उनके परिजनों को भी ये ऐप हटवाने के आदेश दिए गये हैं. बताया जा रहा है कि केंद्रीय गृह मंत्रालय की गाइडलाइंस के बाद ये कदम उठाया गया है. भारत की ख़ुफ़िया एजेंसियों ने 52 ऐसे ऐप्स की सूची बनाई जिससे डाटा चोरी रहने की संभावना रहती है. इसमें टिक टोक, यूसी ब्राउज़र, जूम ऐप, क्लीन मास्टर, जेंडर और शेयर चैट जैसे कई ऐप्स शामिल हैं.