यूपी में सपा विधायक हाजी इकराम कुरैशी को सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ उड़ाना पड़ गया बहुत महंगा, जानिए क्या हुआ

भारत में कोरोना वायरस का प्रकोप अब बहुत तेजी से बढ़ता जा रहा है. केंद्र सरकार और राज्य सरकारें एक के बाद एक बड़े कदम उठा रही हैं ताकि अपने लोगों को बचाया जा सके लेकिन अब ये वायरस धीरे धीरे महामारी के रूप लेता जा रहा है. राहत की बात ये है कि भारत में मरीज ठीक भी काफी हो रहे हैं. अब हर दिन 5 हजार से ज्यादा मरीज बढ़ने के बाद भारत में संक्रमित लोगों की संख्या सवा लाख को पार कर गयी है.

जानकारी के लिए बता दें मोदी सरकार ने इस वायरस के प्रकोप को पूरी दुनिया में देखते हुए ही लॉकडाउन करने का फैसला लिया था. लॉकडाउन को 4 बार बढ़ा दिया गया है. देश में इस समय 31 मई तक के लिए लॉकडाउन लागू है और सरकार अन्य राज्य राज्यों में फंसे मजदूरों को वापस लाने में भी लगी हुई है. स्पेशल ट्रेनों के माध्यम से उन्हें गृह राज्य तक पहुंचाया जा रहा है. लॉकडाउन की वजह से लोगों को कई सारी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है. इसी बीच एक बड़ी खबर उत्तरप्रदेश के मुरादाबाद से आ रही है.

उत्तरप्रदेश सरकार ने लॉकडाउन के चलते राज्य के लाखों गरीब मजदूरों को राहत के तौर पर राशि और जरुरत का सामान देने का काम किया था. साथ ही लॉकडाउन के नियमों का पालन करने की अपील की थी लेकिन यूपी के मुरादाबाद देहात विधानसभा से सपा विधायक हाजी इकराम कुरैशी को लॉकडाउन के नियम और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ उड़वाना बहुत भारी पड़ गया.

दरअसल रमजान के आखिरी जुमे के मौके पर सपा विधायक हाजी इकराम कुरैशी ने लॉकडाउन के नियम और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ उड़ाते हुए लोगों को राशन बांटा लेकिन जोकि उन्हें बहुत भारी पड़ गया. तस्वीर में आप देख सकते हैं कि भीड़ किस तरह सभी नियमों को तांक पर रख रही है. यूपी पुलिस ने इस हरकत के बाद एक्शन लेते हुए सपा विधायक हाजी इकराम और उनके पुत्र उबैद कुरैशी के खिलाफ थाना गलशहीद में मुकदमा दर्ज कर लिया है. अब उनपर महामारी अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत आगे की कार्रवाई की जाएगी.