यूपी पुलिस की प्रयागराज में जमातियों पर बड़ी कार्रवाई, यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर ने छुपा रखा था विदेशी जमातियों को

देश में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है. हर दिन मरीजों की संख्या में जबरदस्त इजाफा हो रहा है तो वहीँ मरीजों के ठीक होने का आंकड़ा भी बढ़ रहा है. भारत में अब कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या 18 हजार के पार पहुँच गयी है. जिसने सरकार की चिंता बढ़ा दी है. केंद्र सरकार और राज्य सरकारें इससे बचने के लिए लगातार बड़े कदम उठा रही हैं जिससे अन्य लोगों को इससे बचाया जा सके.

जानकारी के लिए बता दें कोरोना के बढ़ते कहर के चलते ही मोदी सरकार ने लॉकडाउन को 3 मई तक के लिए आगे बढ़ा दिया है. वहीँ उत्तरप्रदेश में कोरोना के मरीजों का आंकड़ा हजार से ज्यादा पहुंच गया है जिसमें से अधिकतर तबलीगी जमात से जुड़े हुए लोग हैं. सीएम योगी कोरोना के चलते एक के बाद एक बड़े कदम अपने प्रदेश को लेकर उठा रहे हैं.

कोरोना के चलते ही सीएम योगी ने अपना राजधर्म निभाते हुए अपने पिता के अंतिम संस्कार में न जानें का फैसला लिया था. वहीँ सीएम योगी खुद जमातियों से कह चुके हैं कि वह लोग सामने आ जाएँ और क्वारंटाइन हो जाएँ जिससे अन्य लोगों में संक्रमण न फैले. इसके बावजूद भी तबलीगी जमात से जुड़े लोग देश के अलग-अलग हिस्से में छिपे हुए हैं. इसी बीच एक बड़ी खबर प्रयागराज से आ रही है. यूपी पुलिस की कार्रवाई लगातार जारी है और जमातियों की तलाश में लगी हुई है.

गौरतलब है कि यूपी में छिपे जमातियों पर योगी सरकार का बड़ा एक्शन चल रहा है. प्रयागराज से इलाहाबाद विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर शाहिद और 16 विदेशी जमातियों समेत 30 लोगों पर बड़ा एक्शन लेते हुए गिरफ्तार किया गया है. इलाहाबाद विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर को जमातियों को छिपाने के चलते गिरफ्तार किया गया है. योगी सरकार लगातार तबलीगी जमात से लौटे जमातियों को सामने आने और क्वारंटाइन होने की अपील कर रही है इसके बावजूद भी जमाती छिपे बैठे हुए हैं. अब उन्हें शरण देने वालों के खिलाफ भी बड़ी कार्रवाई की जा रही है.