उत्तर प्रदेश में हिं’सा फैलाने के लिए इस संगठन ने बांटे थे करोड़ों रुपये, यूपी पुलिस ने की बड़ी कारवाई

1835

CAA के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों के दौरान उत्तर प्रदेश में खूब हिं’सा हुई थी. जांच में सामने आया था कि PFI (पॉप्युलर फ्रंट ऑफ इंडिया) नाम के संगठन ने हिं’सा फैलाने के लिए करोड़ों रुपये बांटे थे. अब यूपी पुलिस ने PFI पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. पिछले पिछले चार दिनों में यूपी पुलिस ने पीएफआई के 108 सदस्यों को गि’रफ्ता’र किया है.

अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी और कार्यकारी डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर के जानकारी देते हुए कहा, ‘2001 में सिमी पर प्रतिबंध के बाद साल 2006 में केरल में पीएफआई बना था. पीएफआई का संगठन पूरे यूपी में है और शामली, बहराइच, पीलीभीत में सक्रिय है. 19-20 दिसंबर को CAA के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान पीएफआई के लोगों ने भीड़ को भ’ड़का’कर हिं’सा फैलाई.’

प्रेस कांफ्रेंस में डीजीपी हितेशचंद्र अवस्थी ने कहा कि, ‘पीएफआई के फंडिंग नेटवर्क की जानकारी के लिए केंद्रीय एजेंसियों की मदद ली जा रही है. 19-20 दिसंबर के हिं’सक प्रदर्शन में अब तक पीएफआई के 108 सदस्य गिर’फ्ता’र किए गए हैं. इनमें लखनऊ से 14, सीतापुर से 3, मेरठ से 21, गाजियाबाद से 9, मुजफ्फरनगर से 6, शामली से 7, बिजनौर से 4, वाराणसी से 20, कानपुर से 5, गोंडा से 1, बहराइच से 16, हापुड़ से 1 और जौनपुर से 1 की गि’रफ्ता;री हुई है. गृह सचिव अवनीश अवस्थी ने कहा कि हम इनकी जड़ों तक जायेंगे और इसके मददगारों को बेनकाब करेंगे. ये संगठन देश विरोधी गतिविधियों में लिप्त है.