यूपी के इस तारीख से चलाई जा सकती हैं रोडवेज बसें, जानिए क्या होंगे सरकार की शर्तें

पूरे देश में कोरोना के चलते लॉकडाउन चल रहा है. कोरोना के लगातार बढ़ रहे प्रकोप के चलते मोदी सरकार ने लॉकडाउन को 31 मई तक के लिए बढ़ाने का फैसला लिया. सरकार के पास लॉकडाउन को बढ़ाने के अलावा कोई और दूसरा विकल्प नहीं था. यही वजह है कि आज भारत की स्थिति अन्य देशों के मुकाबले काफी बेहतर है. केंद्र सरकार और राज्य सरकारें लगातार एक के बाद एक बड़े कदम उठा रही हैं.

जानकारी के लिए बता दें पिछले कई महीनों से लॉकडाउन लगातार बढ़ रहा है. जिसके चलते जनता काफी परेशान हो गयी है और लॉकडाउन के चलते लोग अन्य राज्यों में या दूर फंसे रह गये हैं हालांकि केंद्र सरकार ने श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाकर मजदूरों को उनके घर पहुँचाने का शानदार काम किया है इसी बीच एक बड़ी और अच्छी खबर उत्तरप्रदेश से आ रही है.

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री सीएम योगी आदित्यनाथ एक के बाद एक बड़े कदम कोरोना के चलते उठा रहे हैं. योगी सरकार ने अब उत्तरप्रदेश की रोडवेज बसों को भी चलाने की तैयारी शुरू कर दी है. बताया जा रहा है कि 1 जून से उत्तरप्रदेश में सरकारी बसों का संचालन शुरू हो सकता है. बस सरकार पर इस अवधि में कोई नई व्यवस्था लागू न हो.

गौरतलब है कि योगी सरकार 1 जून से बसें चलाने की कार्ययोजना बनाई है. बसों के लिए शर्तो के साथ चलाया जायेगा. बस में कन्डक्टर की सीट के सामने सेनेटाइजर की बोतल होगी, सेनेटाइज होने के बाद ही यात्री बस में बैठ सकेंगे. इतना ही नहीं बस की क्षमता के आधे यात्री ही बस में सफ़र कर सकेंगे. 60 सीटर बस में 30 यात्री ही सवारी कर सकेंगे. वहीँ कहा जा रहा है कि एक गेट से यात्री इन होंगे तो दूसरे से आउट. सोशल डिस्टेंसिंग के आधार पर ही यात्रियों की एंट्री होगी. रोडवेज के क्षेत्रीय प्रबंधक एसके शर्मा ने बताया है कि प्रबंधन स्तर पर जैसे ही फरमान आयेगा वैसे ही बसों का संचालन का काम हो जायेगा.