उन्नाव- लड़की के प्रेमी ने ही रची थी पूरी कहानी, झकझोर कर रख देगी पूरी घटना

5748

उन्नाव : रेप पीड़िता के ऊपर तेल डालकर जलाकर मार देने की साजिश रची गयी थी. इस साजिश में कई लोग शामिल थे. हालाँकि आरोपी अपने साजिश में कामयाब हो भी गये और पीड़िता दिल्ली में सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ चुकी है. अब इस मामले को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार हरकत में आई है और फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट में मामले को ले जाने की बात कही जा रही है. हालाँकि सवाल तो ये है कि आखिर पूरी घटना है क्या? क्या रेप पीड़िता को पहले से जानता था मुख्य आरोपी?

दरअसल ख़बरों की माने तो रेप पीड़िता को मुख्य आरोपी अच्छे से जानता था और वो शादी का झांसा देकर बार-बार बलात्कार कर रहा था. उसका शोषण कर रहा था. दोनों में प्रेम प्रसंग चल रहा था. लड़की शादी के झांसे में आकर उसके साथ समय बिताने लगी थी. जानकारी के मुताबिक़, 12 दिसंबर 2018 को आरोपियों शिवम त्रिवेदी व शुभम त्रिवेदी ने बेटी से सामूहिक दुष्कर्म किया. पूरी तरह टूट चुकी बेटी सामूहिक दुष्कर्म किए जाने के अगले दिन रिपोर्ट दर्ज कराने थाने पहुंची. मामला प्रधान के बेटे से जुड़ा होने के कारण पुलिस ने जांच की बात कह उसे चलता कर दिया.

इसके बाद महिला आयोग में शिकायत के बाद केस दर्ज हो गया पर किसी की गिरफ्तारी नही हुई. इसके कुछ समय बाद आरोपी ने आत्मसमर्पण कर दिया था. पीड़िता के पिता ने बताया कि केस वापस लेने के लिए रिश्तेदारों, आरोपी की तरफ से लगातार धमकी दी जा रही थी. घर पर आकर केस वापस लेने की बात करते थे और धमकाते थे. इसमें कोई दो राय नही है कि आरोपी का परिवार रसूख वाला था. पकड़ थी. पैसा था.. पीड़िता का परिवार गरीब था. कोई भी पीड़िता के परिवार की तरफ से खुलकर खड़ा नही होना चाहता था. गाँव था और गाँव में शायद यही होता है, दूसरों के मामले में बोलने से लोग बचते हैं ख़ास कर खुलकर बोलने से!

दूसरी तरफ तीसरी बार प्रधानी आरोपी के परिवार को ही मिली थी. पत्नी प्रधानिन थी और सारा काम पति चलाता था और इन्ही दोनों के बेटों ने जो काण्ड किया है उससे आज पूरे देश में प्रदेश सरकार के प्रति आक्रोश है. हालाँकि जो जानकारी मिल रही है उसके मुताबिक़ प्रेम जाल में फंसाकर बच्ची का पहले शोषण किया गया उसके बाद सामूहिक रेप कर दिया गया. जब मामला बढ़ा तो पेट्रोल डालकर जला दिया गया.
सोती रही पुलिस, सोती रही सरकार, सोती रही महिला आयोग और सोता रहा समाज!