पाकिस्तान को लगा जोरदार झ’टका, संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी मान लिया आ’तंकवा’द को पालता है पाकिस्तान

2005

पकिस्तान वो मुल्क है जो सुधर नहीं सकता हैं. अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आता हैं. पकिस्तान को विश्व में कई मुल्कों ने आ’तंकवाद का गढ़ माना है लेकिन पकिस्तान इस बात को आज भी नहीं मानने को तैयार हैं. जबकि आ’तंकवाद को लेकर पकिस्तान को हर तरफ से फजीयत झेलनी पड़ती है लेकिन फिर भी उसकी सेहत पर कोई असर नहीं पड़ता हैं.

पकिस्तान एक ऐसा मुल्क है जो आ’तंकवा’द फैलाने को लेकर विश्व में फेमस हैं. पकिस्तान की जमीन का इस्तेमाल दूसरे देशों में आ’तंकवाद फैलाने के लिए होता है. लेकिन इन सबके बीच संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ओर से पेश की गई एक रिपोर्ट में ये कहा गया है कि पाकिस्तान द्वारा अफगानिस्तान में हजारों आ’तंकवादी भेजे जाने को लेकर जिक्र किया गया है.

आपको बता दें कि आधिकारिक सूत्रों से ये खबर है कि पाकिस्तान के वजीरे- ए-आज़म इमरान खान ने इस बात को सार्वजनिक रूप से कबूल किया था. संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि ‘अफगानिस्तान में सक्रिय विदेशी आ’तंकवादि’यों में 6,500 पाकिस्तानी नागरिक हैं. जै’श-ए-मोह’म्मद और लश्क’र-ए-तै’यबा विदेशी लड़ा’कों को अफगानिस्तान लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

पकिस्तान की असलियत अब दुनियाभर के मुल्क जान चुके हैं. पकिस्तान ही आ’तंकवा’द फैलाने वाला मुल्क हैं. एक सूत्र ने ये कहा कि पकिस्तान के विदेश मंत्रालय को याद होगा कि उनके पीएम इमरान खान ने पिछले साल ये बात कबूल की थी कि पकिस्तान अभी भी 30,000 से 40,000 आ’तंकवा’दियों की मेजबानी करता है.
भारत ने भी इसको लेकर कहा है कि भारत ने पहले ही पकिस्तान को लेकर यही रुख रहा हैं और भारत भी इस बात को मानता है कि पाक एक आं’तकवादी मुल्क हैं.