मोदी सरकार फिर कर सकती है एक और ऐतिहासिक फैसला

1721

तीन तलाक कानून और जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद मोदी सरकार देश में यूनिफॉर्म सिविल कोड लाने की दिशा में शुरुआत कर चुकी है. इस बात की जानकारी शिवसेना नेता संजय राउत ने दी है. संजय राउत ने एएनआई को बताया कि मोदी सरकार अब सिविल कोड लाने की तैयारी कर चुकी है और मुझे लगता है कि जल्द इसे लागू कर दिया जाएगा. यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू होने से देश में हर नागरिक पर एक समान कानून लागू होगा. सिविल कोड लागू होने के बाद ये फर्क नहीं पडेगा कि वह किस धर्म या जाति से ताल्लुक रखता है. अभी देश में अलग-अलग मजहबों के लिए अलग-अलग पर्सनल लॉ हैं.

यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू होने से हर धर्म और जाति के लिए एक जैसा कानून लागू हो जाएगा. यूनिफार्म सिविल कोड लागू होने से महिलाओं का अपने पिता की संपत्ति पर अधिकार और गोद लेने जैसे मामलों में भी एक समान नियम लागू होगा.

अमेरिका और यूरोपीय लोकतंत्र में भी सभी धर्मों, जातियों के लिए एक सिविल कानून है. ठीक इसी तरह के कानून की सिफारिश का विरोध सबसे पहले भारतीय संगठनों ने ही किया था. लेकिन अब इस कानून के विरोध में केवल मुस्लिम उलेमा और कुछ उदारवादी बुद्धिजीवी ही बचे हैं. अयोध्या मामला भी अब अंतिम चरण में है और जल्द ही इस पर कोई फैसला आ सकता है. मंगलवार से सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई शुरू कर दी है. भारत में समान नागरिकता कानून लाए जाने को लेकर बहस लगातार चल रही है. इसकी वकालत करने वाले लोगों का कहना है कि देश में सभी नागरिकों के लिए एक जैसा नागरिक कानून होना चाहिए, फिर चाहे वो किसी भी धर्म से क्यों न हो. अनुछेद 370 हटने के बाद अब तैयार रहिये इस कानून का स्वागत करने क लिए जिसको लाने की शुरुआत कभी भी हो सकती है.