अंतरिक्ष से धरती की ओर इतने हजार किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से आ रही है आ-फत, 48 घंटे शेष

25961

कोरोना के चलते इस समय पूरी दुनिया की मुश्किलें बढ़ी हुई हैं. कहीं से भी इस वायरस को लेकर राहतभरी खबर नहीं आ रही है. लाखों लोग इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं लेकिन अभी तक इसकी दवा नही बन पायी है और हजारों लोग जान दे रहे हैं. जहाँ एक ओर दुनिया इस महामारी से जूझ रही है वहीँ एक और नींद उड़ा देने वाली खबर अंतरिक्ष से आ रही है.

अब आप भी तैयार हो जाइये आसमान का एक खतरनाक नजारा देखने के लिए क्योंकि धरती के बगल से अंतरिक्ष के एक बड़ी आफत गुजरने वाली है. इस आफत में अब महज 48 घंटे ही बाक़ी रह गये हैं. अंतरिक्ष से आ रही इस बड़ी आफत को लेकर दुनियाभर के वैज्ञानिक परेशान हैं. उनका मानना है कि अगर दिशा में जरा सा भी परिवर्तन हुआ तो खतरा बहुत ज्यादा होगा. फोटो सोर्स- रायटर्स

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने लगभग डेढ़ महीने पहले ही इस बात का खुलासा कर दिया था कि धरती की तरफ एक बहुत बड़ा एस्टेरॉयड तेजी से आ रहा है. इतना ही नही इस एस्टेरॉयड के बारे में ये भी बताया गया है कि ये दुनिया के सबसे ऊंचे माउंट एवरेस्ट पहाड़ से भी कई गुना बड़ा है. एस्टेरॉयड की स्पीएद 31319 किलोमीटर प्रतिघंटा है यानी कि ये 8.72 किलोमीटर प्रति सेकंड, अगर इतनी स्पीड से धरती के किसी भी हिस्से से टकराएगा तो बड़ी सुनामी ला सकता है या फिर किसी भी देश को बर्बाद कर सकता है. इसे उल्कापिंड नाम भी दिया गया था.

गौरतलब है कि नासा वहीँ ये भी कहना है कि इससे घबराने की जरुरत नहीं है क्योंकि ये धरती से करीब 62.90 लाख किलोमीटर दूर से गुजरेगा. अंतरिक्ष विज्ञान में यह दूरी कोई ज्यादा नही मानी जाती लेकिन कम भी नहीं है, बस उनका मानना ये है कि अगर इसकी दिशा में परिवर्तन हुआ तो आफत आ सकती है. वहीँ कुछ वैज्ञानिकों ने इसके धरती से टकराने की आशंका भी जताई है. एस्टेरॉयड 29 अप्रैल की दोपहर करीब 3.26 बजे धरती के पास से गुजरेगा. धरती से इसकी दूरी 62.90 लाख किलोमीटर होगी. अब इस आफत में महज कुछ ही घंटे बाकी रह गये हैं.