पुलवामा आ’तंकी हम’ले की बरसी पर इस कांग्रेस नेता के बिगड़े बोल, शहीदों का कर दिया अपमान

673

पुलवामा आ’तंकी हम’ले की पहली बरसी पर कांग्रेस नेता उदित राज ने शहीदों के बारे में एक ऐसा विवादित बयान दिया है जिससे उनकी शहादत का अपमान होता है. कहने को उदित राज अपने नाम के आगे डॉक्टर लगाते हैं. लेकिन उनके इस बयान को सुनने के बाद महसूस होता है कि सिर्फ नाम के आगे डॉ. लगाने से ही कोई समझदार नहीं हो जाता है. अगर कोई संकीर्ण मानसिकता से घिरा हुआ है तो वो वैसी ही बातें करेगा.

उदित राज ने कहा है कि ‘सोशल मीडिया पर राष्ट्रवाद का प्रचार करने वाले लोग अक्सर उच्च जाति के होते हैं. जिन सैनिकों ने मुख्य रूप से हम’ले में अपनी जा’न गंवाई वे दलित, आदिवासी और पिछड़ी समुदायों से आते हैं. हाशिए पर खड़े समुदायों को सत्ताधारी सवर्णों की देशभक्ति की कीमत चुकानी पड़ती है.’

उदित राज ने देश की सेना को भी जातियों में बाँट कर ना सिर्फ उनका अपमान किया, शहीदों का अपमान किया बल्कि सेना में फूट डालने की कोशिश भी की है. वो ये भूल गए कि एक सैनिक सिर्फ सैनिक होता है ना कि किसी जाति का प्रतिनिधि. लेकिन उदित राज जैसों को सिर्फ दलितों के नाम पर राजनीति चमकानी होती है तो वो ऐसी ओछी बयानबाजी करते रहते हैं. कोई उदित राज से पूछे कि दलित नेता होने के नाते उन्होंने दलितों के उत्थान के लिए कौन सा काम कर दिया तो उनकी बोलती बंद हो जायेगी.

साथ ही उदित राज ने ये भी कहा कि 2024 के लोकसभा चुनाव से पुलवामा जैसा एक और आ’तंकी हम’ला हो सकता है. इसके जरिये उनका इशारा इस तरफ था कि पुलवामा हम’ला भाजपा ने अपने राजनीतिक फायदे के लिए किया था और 2024 में भी वो ऐसा कर सकती है. आपको याद दिला दें कि 2019 लोकसभा चुनाव से पहले तक उदित राज भाजपा के टिकट पर ही सांसद थे लेकिन जब भाजपा ने उन्हें चुनाव में टिकट नहीं दिया तो वो कांग्रेस में शामिल हो गए और ऐसी बयानबाजी करने लगे.