उद्धव ठाकरे ने एमएलसी के लिए किया नामांकन, चुना जाना तय

511

महाराष्ट्र जो की देश की इकॉनमी कैपिटल के साथ साथ देश की मायानगरी भी हैं. जहाँ पर कोरोना वायरस ने पूरी तरह से उसको जकड रखा हैं. वहां पर हाहाकार मचा हुआ हैं. आये दिन मरीजो की संख्या बढती जा रही है. इन सबके बीच उद्धव ठाकरे की राजनीति में भी ब्रेक लग रही थी लेकिन अब ऐसा लग रहा हैं कि उद्धव की कुर्सी बच जाएगी.

उद्धव ठाकरे की कुर्सी को लेकर मं’डरा रहा सं’कट अब ख’त्म होता दिख रहा हैं. क्योकि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने विधानपरिषद की सदस्यता की उम्मीदवारी के लिए नामांकन भर दिया है. जिसके बाद अब उद्धव का निर्वि’रोध एमएलसी निर्वाचित होना तय है. कांग्रेस की तरफ से एक प्रत्याशी ने अपना नाम वापस ले लिया है. जिसकी वजह से अब उद्धव का रास्ता  साफ़ हो गया है. एमएलसी के लिए अपना नामांकन करने वाले ठाकरे और सभी 9 प्रत्याशियों के निर्वि’रोध चुने जाने की संभावना है.

एमएलसी का समीकरण अगर महाराष्ट्र के अंदर देखा जाये तो वहां पर कुल 9 सीटें खली हैं. जिसमे की बीजेपी ने ने अपने 4 लोगों को मैदान में उतारा है. तो दूसरी तरफ शिवसेना और  एनसीपी ने अपने 2-2 और कांग्रेस का 1 उमीदवार मैदान में है. वहीँ महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहेब थोराट ने बताया कि ‘प्रदेश कांग्रेस समिति ने अपने दो उम्मीदवारों में से एक राज किशोर मोदी को राज्य विधान परिषद के चुनाव में नहीं उतारने का फैसला किया है. ऐसे में अब महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे निर्विरो’ध विधान परिषद सदस्य बनने वाले हैं.

विधानपरिषद में जीतने के लिए एक उमीदवार को 29 वोट की जरुरत है. महाराष्ट्र के अंदर कांग्रेस,शिवसेना,एनसीपी के पल कुल 171 विधायक हैं. तो इनको जीतने के लिए तीन और वोट की जरुरत होगी. वहीँ कांग्रेस के एक बड़े नेता का कहना है की निर्दलीय विधायक महाराष्ट्र विकास अघाड़ी का समर्थन कर सकते हैं.