भारत के आंतरिक मामले में तुर्की ने अड़ायी टांग, दिल्ली हिं’सा पर उगला ज’हर

1858

CAA को लेकर हुई दिल्ली में हिं’सा ने तीन दिनों में 35 लोगो की जा’न ले ली और कई मासूम लोग घा’यल हो गए. जिसकी वजह से त’नाव का मा’हौल बना हुआ हैं. लोग अपने घरों से निकलने में ड’रने लगे है. वहीं दिल्ली हिं’सा ने दिल्ली की तस्वीर को बदल कर ही रख दिया है. दरअसल CAA के स’मर्थन करने वाले और उसका वि’रोध करने वाले दोनों गुट आपस में भि’ड़ गए. जिसके बाद प्र’दर्शन ने दं’गे का रूप ले लिया. लोगो के बीच यह कैसा प्र’दर्शन था. जिसमे मा’सूम लोगो को अपनी जा’न ग’वानी पड़ी. कई लोगो का नुकसान हो गया.

इसी के बीच अब तु’र्की के राष्ट्रपति रेचेप तै’य्यप ए’र्दोगान ने एक बार फिर भारत के खि’लाफ ज’हर उगला है. तुर्की के राष्ट्रपति ने कुछ दिनों पहले भारत के खि’लाफ बोलते हुए पा’किस्तान को समर्थन देते हुए कहा था कि हम पा’किस्तान के साथ है. और पा’किस्तान की त’रक्की में पा’किस्तान को स’मर्थन करेंगे. जिसके बाद एक बार फिर से उन्होंने ब’यानबाजी की है. तु’र्की के राष्ट्रपति ने कहा कि दिल्ली में जो हो रहे प्र’दर्शन हो रहा है उसमे मु’सलमानों का न’रसं’हार किया जा रहा है.

ए’र्दोगान ने अंकारा में अपने भा’षण में कहा कि  भारत एक ऐसा देश बन चुका हैं जहां न’र’संहार किया जा रहा है  और वहां मु’सलमानों का न’रसं’हार किया जा रहा हैं और हि’न्दू कर रहे है. इसके अलावा उन्होंने कहा कि क्यूंकि इनकी आवादी ज्यादा है तो इससे ये मजबूत दिखने की को’शिश कर रहे है लेकिन यह ता’कतवर नहीं है. और यह शां’ति स्था’पित करने की बात करते है ऐसे कैसे शां’ति स्था’पित हो सकती हैं.

जिसके बाद भारत की तरफ से तु’र्की के राष्ट्रपति को सलाह दी गयी है वो भारत के आं’तरिक मा’मलों में ह’स्तक्षे’प न करे. अपनी देश के आं’तरिक राजनीति को मजबूत करे और सीमापार आ’तंक’वाद पर निगरानी रखे. गौरतलब है तुर्की भारत के खि’लाफ लगातार ज’हर उ’गल रहा है जिसके बाद उसके भारत के साथ रि’श्तों पर असर पड़ रहा हैं लेकिन तु’र्की फिर भी अपनी ह’रक’तों से बा’ज नहीं आ रहा है.और भारत के खि’लाफ पा’किस्ता’न को जाकर स’मर्थन कर रहा हैं. जिसके जवाब में भारत लगातार तुर्की को भारत के आं’तरिक मा’मलों से दूर रहने की सलाह भी दे रहा है.