विरोध प्रदर्शन के समय ‘पे’ट्रो’ल ब’म’ लेकर आया था, हाथ में ही फ’ट गया

2372

नागरिकता कानून में संसोधन के बाद से ही प्र’दर्श’न हो रहा है. प्र’दर्श’न उ’ग्र होने पर ला’ठीचा’र्ज हो रही है और इसी ला’ठीचा’र्ज की वजह से कई लोगों को चोटें भी आ रही है. अगर प्र’दर्श’नकारी को चो’ट लगे (गलती किसी की भी हो) इसके लिए जिम्मेदार पुलिस को ही ठहराया जाता है. कई लोग खुद के बुने जाल की वजह से चो’ट खाते हैं और नाम पुलिस का लग जाता है. इसकी पोल खोलने वाला एक वीडियो इस वक्त सामने आया है.

दरअसल कई जगहों पर एक वीडियो बड़ी तेजी से वा’यरल हो रहा है. जिसमें देखा जा सकता है कि वि’रो’ध कर रही भीड़ पर एक आंसू गैस का गोला आकर गिरता है इसके तुरंत बाद ही एक ब्ला’स्ट होता है और भी’ड़ इधर उधर भागने लगती है. तभी भी’ड़ में एक व्यक्ति के हाथ में कुछ चो’ट दिखाई पड़ती है. उसका हाथ पूरी तरह से छ’ल’नी हो गया है. आरोप लगाया गया कि ये आँ’सू गैस की गो’ली लगने के कारण हुआ है. लेकिन अब जो जानकारी सामने आ रही है उसने सबको एक बार सोचने पर मजबूर कर देगा.

इस पूरे मामले में पुलिस अधिकारियों का कहना है कि शख्स जाफराबाद-सीलमपुर हिंसा में घा’य’ल हुआ है लेकिन वह पु’लि’स के आंसू गैस के गो’ले से नहीं बल्कि हिं’सा फैलाने के म’कस’द से साथ लाए पे’ट्रो’ल ब’म से घा’य’ल हुआ है. पुलिस का कहना है कि इस युवक ने दं’गा फैलाने के मकसद पे’ट्रोल ब’म लेकर आया था वो उसे फेंकना चाहता था लेकिन इससे पहले उसके हाथ में ही फ’ट गया है. हाथ पूरी तरह ज’ख्मी हो गया और अब अ’स्पताल में उसका इलाज चल रहा है.

दरअसल वि’रो’ध प्र’दर्श’न की आड़ में कुछ लोग आ’तं’क फै’ला’ने की को’शि’श कर रहे थे. जिन्हें रोकने के लिए पुलिस ने लगातार को’शि’श की और जब नही माने तो पुलिस ने ला’ठी’चार्ज कर दिया.