पड़ताल : IAF विंग कमांडर अभिनन्दन के वायरल वीडियोज के पीछे छिपी पकिस्तानी साजिश

226

IAF विंग कमांडर अभिनन्दन की की रिहाई से कुछ वक़्त पहले एक वीडियो सामने आई जिसे पाकिस्तान में जमकर वायरल किया गया और फिर हिंदुस्तान में भी यह वीडियो जमकर वायरल की गई….

इस वीडियो में पाकिस्तान की फितरत और प्रोपगंडा साफ़ नजर आता है कि किस तरह अभिनन्दन को मानसिक रूप से टॉर्चर करके उससे वो सब कहलवाया जो वो कहलाना चाहते थे.. यह वीडियो झूठा है और एक बहुत बड़ा प्रोपगंडा है

जो लोग अभिनन्दन की रिहाई के पीछे पाकिस्तान की दरियादिली और शांति बनाये रखने की चाहत की सराहना कर रहे थे.. पाक प्रधानमंत्री इमरान खान की तारीफ कर रहे थे वो यह जरूर जान ले कि पाकिस्तान की फितरत कभी नहीं बदल सकती.. वो कभी नहीं सुधरेगा..

यह वीडियो आपके सामने है जिसमें आप अभिनन्दन के चेहरे को देख सकते हैं.. किन भावों के साथ.. किस आवाज में किस दबाव में वो यह सब कह रहे हैं..

उनके चेहरे पे.. उनकी आवाज में साफ़ नजर आ रहा है कि किस तरह से पाकिस्तान ने उनसे यह सब कहलवाने के लिए दबाव बनाया, उनके साथ जबरदस्ती की.. उनसे वो सब कहलवाया जो वो भारत के बारे में कहलवाना चाहते थे… हिन्दुस्तानी आर्मी की बुराई करवाई गई.. हिन्दुस्तानी मीडिया की बुराई करवाई.. और पाकिस्तानी आर्मी की तारीफ़ करवाई गई है..

उनके इस वीडियो पर 18 से भी ज्यादा कट लगे हैं.. पाकिस्तान ने एक बार फिर बहुत नीच हरकत की है, और साबित कर दिया कि वो कभी नहीं सुधरेगा.. IAF विंग कमांडर अभिनन्दन से पहले ऐसा ही वीडियो कुलभूषण यादव को टॉर्चर करके बनवाया गया..

यह ISPR का PSCHYCOLOGICAL ऑपरेशन है.. ISI की साजिश है.. IAF विंग कमांडर अभिनन्दन को बंदी बना लेने के बाद पिछले तीन दिनों से वो भारतवासियों के दिमाग से खेल रहे हैं..

पहले गिरफ्तारी का वीडियो , दूसरा वीडियो interrogation का वीडियो जिसमें अभिनन्दन ने नाम और अपने service no. के अलावा कोई भी जानकारी देने से मना कर दिया, तीसरा वीडियो
फिर interrogation का जिसमें जिनेवा कन्वेंशन का एक भी नियम ना मानते हुए उनसे वो सारे सवाल पूछे गए.. जिसकी जिनेवा कन्वेंशन इजाज़त नहीं देता और फिर रिहाई से कुछ वक़्त पहले का यह वीडियो जिसमें पाकिस्तान ने नीचता की हद पार कर दी.. सायकोलॉजिकल ऑपरेशन में विंग कमांडर पर मानसिक दबाव बनाया गया और उनसे वो सब कहलवाया जो वो हिंदुस्तान के लिए कहलवाना चाहते थे.. यह वीडियो ना केवल पाकिस्तान बल्कि हिन्दुस्तान में भी जमकर वायरल हुआ जिसमें जबरदस्ती पाकिस्तान और पाकिस्तानी आर्मी की तारीफ़ करवाई गई है.. यह वीडियो झूठा है जिसमें IAF पायलट को दी जा रही मानसिक यातनाओं का असर आप उनके चेहरे और आवाज में देख सकते हैं और यह सुबूत है पाकिस्तान की नीचता का.. आप सभी से गुज़ारिश है कि इस झूठे वीडियो को शेयर ना करें और दूसरों को भी इस वीडियो को शेयर करने से रोकें.. यह पाकिस्तान की तरफ से रचा गया एक बहुत बड़ा प्रोपगंडा है.. इसके झांसे में ना आयें.. IAF विंग कमांडर की रिहाई पाकिस्तान की शांती बनाये रखने की चाहत नहीं.. बल्कि मजबूरी थी.. प्रधानमंत्री मोदी की कूटनीतिक जीत थी.. पाकिस्तान पर बनाये जा रहे वैश्विक दबाव का डर था ना कि कोई “जेस्चर ऑफ़ पीस” यह वीडियो सुबूत है पाकिस्तान के डबल स्टैंडर्ड्स का.. जिसकी आड़ में वो हिंदुस्तान पर दबाव बनाना चाह रहे थे मगर उनकी यह साज़िश उल्टी पड़ गई.. भारतीय प्रधानमंत्री मोदी ने सख्त लहजे में कह दिया था कि पहले IAF पायलट अभिनन्दन की रिहाई उसके बाद कोई और बात होगी.. जिसके आगे पाकिस्तान को झुकना पड़ा लेकिन एक और नीच हरकत उसने कर दी जिसका सुबूत है यह वीडियो. भारतीय सरकार पाकिस्तान की चाल में नहीं फंसी.. मेरी गुजारिश कि आप भी इस झूठे झांसे में ना आयें  

IAF विंग कमांडर अभिनन्दन को भारत को सौंपने से कुछ वक़्त पहले एक और वीडियो पाकिस्तान की तरफ से वायरल हुई और हिंदुस्तान में भी लोगों ने इसे जमकर शेयर किया

वीडियो में यह दिखाया जा रहा है कि पाकिस्तानी आर्मी ने IAF पायलट के साथ कितना अच्छा बर्ताव किया.. अभिनन्दन उनके साथ बहुत खुश हैं.. नाच रहे हैं.. रिहाई से कुछ वक़्त पहले ही आये इस वीडियो पर हमने पड़ताल की कि वाकई में यह वीडियो सच है क्या सच में अभिनन्दन ने वहां पाक सैनिकों के साथ डांस किया?

असल में यह वीडियो अभिनन्दन का है ही नहीं, फेसबुक पर डुगडुगी नाम से एक पेज है जिस पर यह वीडियो 24 फरवरी को रात 8 बजके 58 मिनट पर अपलोड हुआ है और इसे अब तक 53 हज़ार व्यूज मिल चुके हैं.. वीडियो पर साफ़ लिखा हुआ है PAF यानि पाकिस्तानी एयर फ़ोर्स

वीडियो में PAF का जो सैनिक इसमें दिख रहा है उसकी यूनिफार्म कुछ कुछ IAF विंग कमांडर अभिनन्दन से मिलती है.. उनके सर पर बाल भी नहीं हैं.. इसी वीडियो को यहाँ से डाउनलोड किया गया और जो वीडियो वायरल की जा रही है उसे हल्का सा ब्लर यानि धुंधला कर दिया जिससे चेहरे साफ़ ना हो पाएं और झूठ फैलाया गया.. जो वीडियो आपने देखी हैं और शेयर की हैं वो दरअसल IAF विंग कमांडर अभिनन्दन की है ही नहीं.. यह वीडियो झूठा है.. फेक है.. साज़िश है यह दिखाने की कि पाकिस्तानी आर्मी ने विंग कमांडर अभिनन्दन के साथ बहुत अच्छा बर्ताव किया जिससे वो बहुत खुश हैं और नाच रहे हैं.. और चौपाल की पड़ताल में इन दोनों  वीडियोज की सच्चाई हमने आपको बताई.. पाकिस्तान की प्रोपगंडा आपको बताया  इसमें मत फंसिए और वीडियोस को शेयर मत कीजिये और कोई आपको यह वीडियोस भेजता है तो उन्हें भी सच बताएं और वीडियोस शेयर करने से मना करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here