12.2 C
Noida

तो ये मतलब होता है सड़कों पर बनी पीली और सफ़ेद लाइन का, जानिए आप भी

आपका भी कहीं घुमने आने – जाने का प्लान ज़रूर बनता होगा | सड़कों पर आते जाते वक़्त आप बहुत सारी चीज़ें देखते होंगे| ट्रैफिक लाइट और सड़कों पर बनी सफ़ेद और पीली रंग की लाइने भी देखते होंगे | लेकिन लोग सिर्फ इन्हें देखते हैं इनके बारे में कुछ जानते नहीं हैं | लोगों को पता ही नहीं होता कि आखिर ये लाइनें सड़कों पर क्यों खींची जाती हैं | कुछ लोगों को तो ये लगता है कि ये सिर्फ सड़क की खूबसूरती बढ़ाने के लिए एक डिजाइन हैं इससे ज्यादा कुछ नहीं , लेकिन ऐसा नहीं हैं सड़क पर बने हर चीज़ का कोई मतलब है सड़कों की खूबसूरती बढ़ाने के लिए पेड़ पौधे लगाए जाते हैं सड़कों के बीच रेखाएं नहीं खींची जाती |

कुछ लोगों को न तो ट्रैफिक नियमों के बारे में कुछ पता होता है और न ही वो इन्हें पता करना ज़रूरी समझते | इसी के चलते वो रोज न जाने कितने ट्रैफिक नियमों को तोड़ते हैं | लोगों के इतना पढ़े लिखे होने के बावजूद भी बस ट्रैफिक लाइट तक ही जानकारी होती है | आज हम आपको सड़कों पर बनी लाइन का मतलब बताएँगे जो आप सभी को पता होना चाहिए |

.सीधी और लम्बी सफ़ेद लाइन

आपको बता दें कि इस तरह की लाइन सड़क को दो भागों या लेन में बांटने के लिए होती है , इसका मतलब होता है कि आपको सीधे चलना हैं बिना लेन बदले |

.टूटी हुई सफेद लाइन

इस तरह की लाइन का मतलब होता है कि आप सड़क को सावधानी के साथ बदल सकते हैं | लेकिन इससे पहले ये सुनिश्चित करना ज़रूरी है की लेन बदलना सुरक्षित है |

. सीधी और लम्बी पीली लाइन

इस लाइन का मतलब होता है कि आप किसी वहान को ओवरटेक कर सकते हैं | पर इसके अलावा पीली लाइन को पार नहीं कर सकते |

.दो लम्बी और सीधी पीली लाइन

ये लाइन एक सड़क को नहीं बल्कि एक लेन को दो हिस्सों में बांटती है | इन दो पीली लाइन के ऊपर से नहीं निकला जा सकता |

.टूटी पीली लाइन

इन टूटी हु लाइनों से जाया जा सकता है | अगर कोई एक लेन में चलते समय लेन बदलना चाहे तो सावधानी के साथ बदला जा सकता है |

.लम्बी पीली लाइन के साथ टूटी पीली लाइन

इसका लाइन का मतलब होता है कि आप अगर लम्बी पीली लाइन की साइड हो तो आप किसी वाहन को ओवरटेक नहीं कर सकते | लेकिन अगर आप टूटी हुई पीली लाइन कि तरह हो तो आप किसी भी वाहन को आसानी से ओवरटेक कर सकते हो |

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
12,256FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles