आज की चौपाल- 1 मार्च की दिनभर की बड़ी खबरों को यहां पढ़िए

402

आज की चौपाल में पढ़िए सबसे बड़े खबर के बारे में..वो खबर जिसका सबसो बेसब्री से इंतजार था..विंग कमांडर अभिन्दन के देश वापसी का..भारत और पाकिस्तान के रिश्तों के लिए आज का दिन काफी अहम है. पाकिस्तान आर्मी की ओर से बंदी बनाए गए भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन की आज वतन वापसी हो गई है, अमेरिका समेत कई देशों के दबाव और भारत के आक्रामक रुख के बाद पाकिस्तान ने यह फैसला लिया. अमेरिका ने पाकिस्तान के इस फैसले का स्वागत किया. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि भारत-पाकिस्तान से अच्छी खबर आ रही है. उधर पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह मोहम्मद कुरैशी ने भारत से एक बार फिर सबूत मांगा है. उनका कहना है कि अगर भारत ठोस सबूत देता है तो हम ‘बेहद बीमार’ मसूद अजहर को गिरफ्तार करेंगे.

1.वही विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई के इतर अबुधाबी में ओआईसी की बैठक में शिरकत करने पहुंचीं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि आतंकवाद लोगों की जिंदगियां बर्बाद कर रहा है, क्षेत्र में अशांति फैलाता है. आतंकवाद तेजी से बढ़ रहा है. इससे होने वाली मौतों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है. हमें उन सभी देशों को यह बात जरूर बतानी चाहिए जो आतंकवाद को पनाह और बढ़ावा देते हैं. हमने आतंकवाद का सबसे भयानक रूप देखा है. उन्होंने आगे कहा कि आतंकवाद और चरमपंथ दोनों ही देश के लिए बड़ा खतरा है. सुषमा स्वराज ने भारत को विविधताओं से भरा देश बताया है. उन्होंने कहा भारत में हर धर्म और संस्कृति का सम्मान किया जाता है. उन्होंने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई किसी धर्म के खिलाफ नहीं है..

2.वही, दूसरी तरफ तमिलनाडु के कन्याकुमारी पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुलवामा हमले का जिक्र करते हुए जवानों को सलाम किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि पिछली सरकारों में आतंकी हमले पर सख्त ऐक्शन नहीं लिया जाता था लेकिन हमारी सरकार ने सेना को आतंकियों से बदला लेने की खुली छूट दी है। पीएम ने अपने भाषण की शुरुआत विंग कमांडर अभिनंदन की तारीफ से की।

3.बता दें कि इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है कि जब किसी दूसरे देश की ओर से सैन्य अफसर को इतने कम समय में रिहा किया जा रहा है. मेजर जनरल अशोक मेहता ने भी बताया कि इतिहास में पहली बार किसी सैन्य अधिकारी को 36 या 48 घंटे में किसी दूसरे देश को छोड़ा जा रहा है. इस बात का जिक्र बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी इंडिया टुडे कॉनक्लेव के दौरान किया.

कहा जा रहा है कि जेनेवा संधि की वजह से पाकिस्तान ने यह कदम उठाया है और अभिनंदन को इतनी जल्दी रिहा किया जा रहा है. हालांकि जेनेवा संधि तब लगती है जब दो देश आपस में जंग का ऐलान कर देते हैं. लेकिन अभी तक भारत और पाकिस्तान ने जंग की घोषणा नहीं की है, इसलिए अभिनंदन की रिहाई जेनेवा संधि के तहत नहीं कही जा सकती.

4. विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई पर राजनीतिक दलों ने प्रतिक्रिया दी है. बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, “यह भारत की कूटनीतिक  जीत है. इमरान गिड़गिड़ा रहे हैं बात करने के लिए. लगता नहीं वो लड़ने चाहते हैं. हमारी सेना तैयार है. प्रधानमंत्री जी ने खुली छूट दे रखी है. पाकिस्तान जो भी करेगा उसका उसे जवाब मिलेगा. जब पूरे देश को एक साथ खड़े रहना चाहिए तब लोग राजनीति के लिए सेना का मनोबल घटाने का काम कर रहे हैं. चुनाव को अलग देखना चाहिए. संकट के घंटे में दल नहीं देश को देखना चाहिए. सभी को अपने झंडे मोड़कर रख कर देश के झंडे तले खड़े होना चाहिए.

उधर, कांग्रेस नेता तारिक अनवर ने कहा कि पाकिस्तान अभी भी उन लोगों को प्रोटेक्शन दे रहा है जो लोग आतंकी गतिविधि में शामिल हैं या आतंकी संगठनों के सरगना हैं. यह बात अभी स्पष्ट नहीं है कि पाकिस्तान ने गुड गेस्चर के तहत अभिनंदन को छोड़ा है या अंतरराष्ट्रीय दबाव में यह फैसला लिया है. मैं समझता हूं कि अभी इंतजार करना पड़ेगा और देखना होगा कि पाकिस्तान की नीयत क्या है.

आम आदमी पार्टी के नेता एवं राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा, पहले अपने जाबांज अभिनंदन का स्वागत किया है कि उन्होंने दुश्मन देश की धरती पर भी अपनी बहादुरी दिखाई.

जबकि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि हमारे विंग कमांडर को पाकिस्तान को छोड़ना पड़ रहा है क्योंकि दुनिया के देशों ने पाकिस्तान पर दबाव डाला, ये मानते हुए कि पाकिस्तान आतंकवाद को संरक्षण देता है.