आज की चौपाल- 2 मार्च के दिन खबरों में क्या रहा खास, यहां पढ़िए

381

1 मार्च का दिन इतिहास के पनों में लिखा जाएंगा..घंटो इंतजार के बाद विंग कमांडर अभिनंदन अपने वतन वापस लौट आए हैं..अभिनंदन को तो PAK ने लौटा दिया..पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान शांति का राग अलाप रहे हैं, लेकिन बॉर्डर पर लगातार गोलाबारी जारी है. ऐसे में इमरान खान की शांति की बात बेईमानी लगती है..ऐसे कई कदम है जिन पर पाकिस्तान के लगाम कसे बिना बात नहीं बनेगी…वो कौन से कदम है यहां पढ़िए विस्तार से बताते है..सबसे पहले तो

1.पाकिस्तान पुलवामा के दोषियों को सौंपे

पुलवामा में हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. इस हमले में पाकिस्तान आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का हाथ शामिल था. भारत ने इस हमले के सबूत भी पाकिस्तान को सौंपा है. इसके बावजूद पाकिस्तान ने दोषियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है और ना हीं उन्हें भारत को सौंपने को राजी है.

2. अपने देश में पल रहे आतंकियों पर पाकिस्तान लगाम लगे

पाकिस्तान ने मसूद अजहर, हाफिज सईद और सैय्यद सलाउद्दीन जैसे आतंकियों को पाल रखा है. पाकिस्तान में मौजूदा समय में करीब 18 आतंकी संगठन चल रहे हैं, पाकिस्तान में इन आतंकी सरगनाओं के ट्रेनिंग कैंप भी चल रहे हैं, जिसमें वो कश्मीर के युवाओं को आतंकी हमलों के लिए प्रशिक्षण देते हैं. इन आतंकियों को लेकर भारत कई बार अंतरराष्ट्रीय और पाकिस्तान के सामने रख चुका है. ऐसे में इन आतंकियों पर लगाम लगाए बिना शांति की बात कैसे की जाएगी.

3. बॉर्डर पर पाक की ओर से गोलीबारी रोके पाकिस्तान

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान लगातार शांति का राग अलाप रहे हैं, लेकिन LoC पर पाक की ओर से लगातार गोलाबारी जारी है. पाकिस्तानी फौज लगातार सरहद पर सीजफायर तोड़ रही है. हालांकि पाकिस्तान की फायरिंग का भारतीय सुरक्षा बल मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं. लेकिन इन सबके बीच पाकिस्तान के साथ शांति की बात कैसे की जा सकती है.

4. कश्मीर में अलगाववाद को मदद करना बंद करे

कश्मीर में अलगाववादियों को पाकिस्तान की ओर से लगातार मदद दी जा रही है. इतना ही नहीं अलगाववादियों को आतंकी हमले के लिए ट्रेनिंग और फंडिग पाकिस्तान कर रहा है. अलगाववाद को पाकिस्तान से मिलने वाली मदद बंद किए बिना शांति की बात संभव नहीं है.

5.दाऊद जैसे भारत विरोधी तत्वों को सौंपे

मुंबई ब्लास्ट के मुख्य आरोपी दाऊद इब्राहीम जैसे भारत विरोधी तत्वों को पाकिस्तान ने अपने यहां पनाह दे रखा है. ये भारत विरोधी तत्व पाकिस्तान की जमीन से भारत के खिलाफ साजिश रचने का काम करते रहते हैं. ऐसे में दाऊद इब्राहीम जैसे भारत विरोधी तत्वों को सौंपे बिना पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की शांति की बात छलावा नहीं तो क्या है.

चलिए अब खबरों में आगे बढ़ते है और बताते है आज की कुछ बड़ी और खास खबरें-

2. हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों को कश्मीर घाटी में बड़े स्तर पर फंडिंग करने वाले जमात-ए-इस्लामी पर बड़े पैमाने पर कार्रवाई शुरू हो गई है. जमात-ए-इस्लामी पर शिकंजा कसके उसके कई नेताओं को हिरासत में ले लिया गया है…

साथ ही जम्मू और कश्मीर में उसकी जुटाई गई 52 करोड़ रुपये से ज्‍यादा की संपत्‍त‍ि सील कर दी गई हैं..जमात-ए-इस्लामी की कई संस्‍थाओं की पहचान की गई है, जिसमें कई शैक्षणिक संस्‍थाएं, दफ्तर, स्‍कूल भी शामिल हैं.

दरअसल जमात-ए-इस्लामी जम्मू कश्मीर का मिलिटेंट विंग है. यह जम्मू कश्मीर में अलगाववादी विचारधारा और आतंकवादी मानसिकता के प्रसार के लिए प्रमुख जिम्मेदार संगठन है. आतंककी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन को जमात-ए-इस्लामी जम्मू कश्मीर ने ही खड़ा किया है. हिज्बुल मुजाहिदीन को इस संगठन ने हर तरह की सहायता की जैसे की हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकियों को ट्रेंड करना, फंडिंग करना, शरण देने समेत आने-जाने की सुविधा मुहैया कराना..

3. विदेश से भी आतंकवाद को खत्म करने की खबर आ रही हैं..अमेरिका ने अल-कायदा सरगना ओसामा बिन-लादेन के बेटे के बारे में सूचना देने वाले को 10 लाख डॉलर का इनाम देने की घोषणा की है. अमेरिका ओसामा के बेटे हमजा बिन-लादेन को आतंकवाद के ऊभरते हुए चेहरे के रूप में देखता है. ‘जिहाद के युवराज’ के नाम से जाने जाने वाले हमजा के ठिकाने का कोई अता-पता नहीं है. वर्षों से अंदाजा लगाया जा रहा है कि वह पाकिस्तान, अफगानिस्तान, सीरिया में रह रहा है या फिर ईरान में नजरबंद है.

विदेश मंत्रालय ने किसी भी देश में हमजा की मौजूदगी की खबर देने वाले को 10 लाख डॉलर इनाम देने की घोषणा की है. अमेरिका के मुताबिक हमजा की उम्र करीब 30 साल है और 2011 में अपने पिता की मौत का बदला लेने के लिए अमेरिका पर हमलों की धमकी दी है. अमेरिकी नेवी सील्स ने पाकिस्तान के एबटाबाद में घुसकर 2011 में ओसामा बिन-लादेन की हत्या कर दी थी.

3..अभिनंदन ने अपनी धरती पर कदम रखा, तो उनके स्वागत में पूरा देश खड़ा था. भारतीय क्रिकेट टीम ने भी अपने हीरो को सलामी दी, टीम इंडिया ने एक जर्सी जारी की जिसपर विंग कमांडर अभिनंदन का नाम लिखा है और जर्सी नंबर है.

बता दें कि भारतीय क्रिकेट टीम की नई जर्सी लॉन्च हुई है. इसी जर्सी को पहन कर भारतीय टीम वर्ल्ड कप में खेलेगी. इसी दौरान भारतीय टीम ने अभिनंदन के नाम की भी जर्सी जारी की. जर्सी का नंबर एक दिया गया यानी उन्हें सभी खिलाड़ियों से ऊपर की प्राथमिकता दी गई है. यानी अब भारतीय टीम में किसी भी खिलाड़ी को नंबर 1 की जर्सी नहीं दी जाएगी, क्योंकि अब वह अभिनंदन के नाम पर है.

इससे पहले भी भारतीय टीम ने पुलवामा में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि दी थी.  भारतीय टीम ने अपनी बांह पर काली पट्टी पहन मैच खेला था और दो मिनट का मौन रखा था.