आज की चौपाल- 22 फरवरी की सभी बड़ी खबरें यहां पढ़िए

416

आज की चौपाल में पाकिस्तान की नींद उड़ा देने वाली एक खबर हैं..तो वहीं दूसरी ओर किसानों को साधने के लिए सरकार ने पूरी तैयारी कर ली है…बात पीएम मोदी के दो दिवसीय दक्षिण कोरिया के दौरे पर भी होगी…नमस्कार मैं सौरभ और आप देखना शुरू कर चुके है आज की चौपाल..तो चलिए इन सारी खबरों को हम आसान भाषा में आपको बताते हैं….

1.आम चुनाव से पहले देश के किसानों के लिए मोदी सरकार ने एक के बाद एक कई तोहफे देने का एलान किया है और इसी कड़ी में पीएम मोदी किसानों के खाते में ‘प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना’ की पहली किस्त ट्रांसफर करने जा रहे हैं…बता दें कि 24 फरवरी को यूपी के गोरखपुर में बीजेपी के राष्ट्रीय किसान सम्मलेन का आयोजन हुआ हैं…और इसी सम्मेलन से पीएम मोदी देश के 12 करोड़ किसानों के खाते में 2 हजार रुपए की पहली किस्त जारी करेंगे..

गौरतलब है की मोदी सरकार ने अंतरिम बजट में किसानों को लेकर बड़ा फैसला किया था. सरकार ने ‘प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना’ के तहत देश के 12 करोड़ किसानों को उनकी फसल के लिए सालाना 6 हजार रुपये देने की घोषणा की है. किसानों को सरकार द्वारा दिए जाने वाले 6000 रुपये 3 किस्तों में अकाउंट में सीधे ट्रांसफर किए जाएंगे….

इस योजना के लिए सरकार ने प्रति वर्ष 75000 करोड़ रुपये के अनुदान को मंज़ूरी दी थी. इस योजना का लाभ उन किसानों को मिलेगा जिनके पास दो हेक्टेयर या उससे कम जमीन है.

बता दें, किसानों के खाते में 2 हजार रुपये देने के लिए सरकार ने इसके लिए राष्ट्रीय भुगतान निगम यानी की एनपीसीआई को आदेश जारी कर दिए हैं. एनपीसीआई के सिस्टम पर संबंधित किसानों से जुड़ी जानकारी डाली जाएगी. इसके बाद 24 फरवरी को किसानों के खाते में 2 हजार ट्रांसफर हो जाएंगे…जिससे सीधा फायदा किसानों तक पहुंचेगा..

2. वहीं, पूरे विश्व को झकझोर कर रख देने वाली पुलवामा घटना के बाद सरकार ने पाकिस्तान को दी जाने वाली सहूलियत को हटाने का फैसला लिया..MFN का दर्जा पाकिस्तान से वापस ले लिया गया जिससे पाकिस्तान के कई ट्रक बॉर्डर से वापस जा रहे हैं…और अब इसी कड़ी में भारत सरकार के केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने पाकिस्तान की नींद उड़ा देने वाला बयान दिया है. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने संकेत दिए हैं कि भारत अब पाकिस्तान का पानी रोकने की तैयारी में है। एक सभा में उन्होंने कहा कि भारत के अधिकार वाली तीन नदियों का पानी, जो पाकिस्तान जाता है, उसे यमुना में छोड़ने की योजना बनाई जा रही है…हालांकि इसके बाद नितीन गडकरी ने एक और बयान जारी करते हुए कहा कि निर्णय सिर्फ मेरे डिपार्टमेंट का नहीं है, इसपर सरकार और प्रधानमंत्री के निर्णय के बाद ही फैसला होगा..हालाँकि मैंने अपने डिपार्टमेंट से कहा है कि पाकिस्तान में जो भारत का पानी जाता है उसे कहा- कहा रोका जा सकता हैं, उसका टेक्निकल डिज़ाइन बनाकर तैयार रखे..

यहाँ आपको समझने की जरुरत हैं कि भारत की तीन नदियाँ सिंध झेलम और चिनाब से पाकिस्तान को पानी मिलता है… इसमें एक निश्चित मात्रा में ही पाकिस्तान को पानी देने का समझौता हुआ था लेकिन पाकिस्तान के पास समझौते से ज्यादा पानी यानि भारत के हिस्से का भी पानी पाकिस्तान को मिलता है…लेकिन अब जाकर नितिन गडकरी ने अपने डिपार्टमेंट से इसका खाका तैयार करने के लिए कहा है कि कैसे भारत के हिस्से के पानी को पाकिस्तान जाने से रोका जाए…यकीनन सरकार का यह कदम पाकिस्तान के लिए सबसे बड़ा झटका साबित हो सकता है..क्योंकि पाकिस्तान का बड़ा हिस्सा इन नदियों के पानी पर ही गुजर बसर करता है..पाकिस्तान की 90% खेती इन तीन नदियों पर टिकी हुई है.

3. पीएम मोदी दो दिवसीय दौरे पर दक्षिण कोरिया गए हुए है..अपनी दक्षिण कोरिया यात्रा के दूसरे दिन पीएम मोदी ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी. जिसके बाद उन्होंने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन से मुलाकात की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यहां सियोल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया. इस पुरस्कार से सम्मानित होने वाले प्रधानमंत्री मोदी पहले भारतीय व्यक्ति हैं.

पीएम मोदी ने अवॉर्ड मिलने के बाद कहा कि इस अवॉर्ड को वह भारत के नागरिकों को समर्पित करते हैं. उन्होंने कहा कि आज दुनिया ने भारत की वसुधैव कुटुम्बकम नीति को अपनाया है. प्रधानमंत्री बोले कि भारत ने हमेशा दुनिया को शांति का संदेश दिया, उन्होंने इस दौरान यहां शांति पाठ भी किया. प्रधानमंत्री मोदी ने यहां कहा कि ये अवॉर्ड महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर मिल रहा है, ये काफी बड़ी बात है. PM मोदी बोले कि उन्हें इस सम्मान के साथ जो राशि मिली है, वह उसे नमामि गंगे के फंड में भेंट करना चाहते हैं.

इस दौरान PM मोदी को आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में राष्ट्रपति मून जे-इन का साथ मिला. दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति ने पुलवामा हमले की निंदा की. दोनों देशों की एजेंसियों में समझौता हुआ है कि वह आतंकवाद के खिलाफ लड़ेंगे.