DRDO की उपलब्धता पर विपक्ष ने फिर बोला हमला, पीएम मोदी समेत बीजेपी को घेरा

238

बुद्धवार की सुबह लगभग सवा 11 बजे ट्वीटर के जरिये एक ट्वीट किया उन्होंने लिखा मेरे प्यारे देशवासियों, आज सवेरे लगभग 11.45 – 12.00 बजे मैं एक महत्वपूर्ण संदेश लेकर आप के बीच आऊँगा। इसके बाद चुनावी माहौल के बीच राजनीतिक हलचल तेज हो गयी.. कोई समझ नही पा रहा था कि आखिर पीएम मोदी चुनाव के बीच देश को किस मुद्दे पर संबोधित करने वाले हैं. लगभग साढ़े 12 बजे पीएम मोदी लाइव टीवी पर सामने आये तो उन्होंने जो जानकारी दी उससे देश में ख़ुशी का माहौल है तो वहीँ विपक्ष हैरान और परेशान.. प्रधानमंत्री ने बताया कि भारत ने अन्तरिक्ष में एक लो ऑर्बिट सैटालाइट मार गिराया है. इसके साथ ही भारत उन चुनिंदा देशों में शामिल हो गया है जो ऐसा कर सकते हैं. अब तक यह क्षमता अमेरिका, रूस और चीन के पास ही है. भारत ने मिशन शक्ति के तहत केवल 3 मिनट में ही ASAT मिसाइल की मदद से इस जीवित सैटेलाइट को मार गिराया है. पीएम मोदी ने इसे भारत की उपलब्धि को बताया आज कुछ ही समय पहले बड़ी उपलब्धि हासिल की है. स्‍पेस पावर के रूप में भारत ने अपना नाम दर्ज करा लिया है और अब दुनिया के तीन राष्ट्रों के साथ भारत का नाम में शुमार हो गया है. पीएम मोदी के इस संबोधन के बाद विपक्ष के नेताओं का रिएक्शन आना लाजमी था..राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बीजेपी अध्यक्ष, राजनाथ सिंह, निर्मला सीतारमण, कांग्रेस पार्टी और तमाम नेताओं की तरफ से DRDO को बधाई दी गयी लेकिन हम कुछ ख़ास लोगों की बात करें तो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने क्या कहा…

राहुल गाँधी ने कहा कि DRDO को इस कार्य के लिए बधाई और साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी पर तंज कसते हुए वर्ल्ड थिएटर दिवस की बधाई दी… वर्ल्ड थिएटर दिवस तो सुबह से मनाया जा रहा है तो प्रधानमंत्री को बधाई एक बजे?


वैसे राहुल गाँधी के इस ट्वीट के बाद लोगों ने उनके मजे लेने शुरू कर दिया. सबूत मत मांगना, पीएम मोदी ने जब संबोधन के लिए ट्वीट किया तो राहुल गाँधी ATM की लाइन में खड़े हो गये थे. इस तरह के तमाम ट्वीट करके लोग मजे लेने लगे… हालाँकि कांग्रेस के नेताओं ने पंडित नेहरु का जिक्र करना नही भूले..
पश्चिम बंगाल की विवादित मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री के संबोधन को ड्रामा कहा . ममता ने कहा मोदी ने यह एलान राजनीतिक फायदा लेने के लिए किया है. आपको बताते चले कि ममता ने इस मुद्दे पर एक के बाद एक चार ट्वीट कर डाले. कभी कहा कि मोदी इस कामयाबी का श्रेय लेना चाहते हैं तो कभी कहा कि मोदी ड्रामा करते हैं. साथ आचार सहिंता का उलंघन भी बताया था..
उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि DRDO को बधाई तो दी लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि चुनाव सर पर है और पीएम मोदी इसका एलान कर चुनाव से ध्यान भटकाने के लिए किया है
आम आदमी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा कि पीएम मोदी ने टीवी का फूटेज खाया.. वक्त बर्बाद किया …हमने तो कुछ और ही सोचा था.


इन सबका जवाब देने के लिए अरुण जेटली सामने आये और उन्होंने कहा कि पहले की सरकारें DRDO को सहमती नही देती थी… उनको DRDO पर भरोसा नही था लेकिन पीएम मोदी ने DRDO पर भरोसा जताया और अपनी सहमती दी. आज परिणाम हमारे सामने तो लोगों के पेट में दर्द हो रहा है.
इसी के साथ आपको यह भी जानना जरुरी है कि कुछ नेताओं ने चुनाव आयोग के पास शिकायत की थी कि पीएम मोदी ने आचार सहिंता का उलंघन किया है, उन्हें पहले चुनाव आयोग से आज्ञा लेनी चाहिए थी लेकिन चुनाव आयोग ने कहा कि इसके लिए किसी तरह की आज्ञा परमिशन लेने की जरूरत नही थी…


वैसे सभी नेताओं को साथ आकर भारत के इस गौरव के पल पर ख़ुशी मनाना चाहिए. ख़ुशी मानना चाहिए कि भारत सबसे शक्तिशाली देशों में शामिल हो गया है. लेकिन भारत के नेताओं को सबूत मांगना होता है, प्रधानमंत्री पर तंज कसना है, राजनीति करनी है.. और अपने बयानबाजी से पाकिस्तान की मीडिया में सुर्खियाँ बटोरनी है.
खैर हमारी तरफ से DRDO और आपको इस कामयाबी के लिए अनंत शुभकामनायें