1 अक्टूबर से बदल जायेंगे आपकी जेब पर असर डालने वाले ये नियम

378

देश में 1 अक्टूबर 2019 से कई नियम बदल जायेंगे. इन नियमों के बदलने का सीधा असर आपकी जेब पर पड़ेगा. कुछ क्षेत्र में बदले नियमों से आपकी जेब को सीधा फायदा पहुंचेगा और कुछ नियमों में बदलाव का नुक्सान भी आपकी जेब को झेलना पड़ेगा. आइये जानते हैं कौन से हैं वो नियम जिससे आप प्रभावित होंगे.

कम हो जायेगी GST दर

20 सितम्बर को हुई GST काउंसिल की बैठक में कई वस्‍तुओं पर GST कम किया गया है. नए बदलावों के अनुसार, अब 1000 रुपए तक के किराए वाले होटलों पर टैक्स नहीं लगेगा और 7500 रुपए तक टैरिफ वाले कमरे के किराए पर सिर्फ 12 फीसदी जीएसटी देना होगा. 10 से 13 सीटों तक के पेट्रोल और डीजल वाले वाहनों से सेस घटा दिया गया है.

GST रिटर्न का बदलेगा तरीका

जीएसटी काउंसिल के फैसले के मुताबिक, पांच करोड़ सालाना से ज्यादा टर्नओवर वाले कारोबारियों को GST रिटर्न के लिए GST ANX-1 फॉर्म भरना होगा. पहले GSTR-1 फॉर्म भरना पड़ता था. छोटे कारोबारियों को अब भी GSTR-1 के जरिये ही GST रिटर्न भरना होगा लेकिन उनके लिए ऐसा करना 01 जनवरी 2020 से अनिवार्य होगा.

कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती

01 अक्टूबर 2019 के बाद कॉर्पोरेट टैक्स 30 फीसदी से घटाकर 22 फीसदी कर दिया था. 01 अक्टूबर 2019 के बाद मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के पास 15 फीसदी टैक्स भरने का विकल्प होगा. पहले भारतीय कंपनियों को 30 फीसदी टैक्स के अलावा सरचार्ज भी देना पड़ता था लेकिन अब से सरचार्ज और टैक्स समेत कुल चार्ज 17.01 फीसदी हो जाएगा.

प्लास्टिक पर पाबंदी

2 अक्टूबर से सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल देश में पूरी तरह से प्रतिबंधित हो जाएगा. प्रधानमंत्री मोदी ने 15 अगस्त को लाल किले से अपने भाषण के दौरान इसकी घोषणा की थी.

बदल जायेंगे ड्राइविंग लाइसेंस और RC

01 अक्टूबर, 2019 से Driving Licence और RC से जुड़े नियम बदल जायेंगे. नए नियमों के अनुसार अब डीएल और आरसी पंजीकरण प्रमाण-पत्र एक ही रंग के हो जाएंगे. साथ ही अब ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी में माइक्रोचिप के अलावा क्यूआर कोड होंगे. इस नियम के लागू होने के बाद सभी को अपना DL बदलवाना पड़ेगा.

SBI के बदलेंगे नियम

01 अक्टूबर से SBI खाते में मंथली एवरेज बैलेंस नहीं रखने पर जुर्माना 80 फीसदी कम हो जाएगा. खाते में निर्धारित रकम से यदि बैलेंस 75 फीसदी से कम रहता है तो जुर्माने के तौर पर 80 रुपये + GST देना होगा। खाते में 50 से 75 फीसदी तक बैलेंस रखने वालों को 12 रुपये+ GST देना होगा. 50 फीसद से कम बैलेंस होने पर 10 रुपये जुर्माना + GST अदा करना होगा.