ये रहे पुलवामा हमले में पाकिस्तान के हाथ होने के पुख्ता सबूत

293

पुलवामा में हमला हुआ,सेना के 40 जवान शहीद हो गए। देश मे गुस्सा है। सब जानते है कि हमला पाकिस्तान ने ही कराया है लेकिन पाक ये मानने को बिल्कुल तैयार नही है। उसका कहना है भारत सिर्फ पाकिस्तान को बदनाम करने के लिए इस तरह की बाते करता है। पाक पीएम तो बकायदा भारत को धमकी तक दे चुके है की अगर भारत ने हमला किया तो पाक इसका माकूल जवाब देने में पूरी तरह सक्षम है।

ख़ैर, पाक भले नकारते रहे लेकिन इन सबसे अलग आज हम आपको कुछ ऐसे सबूत दिखाने जा रहे है जिससे पाक के हाथ खून से रंगे होने का दावा और पुख्ता हो जाएगा।
आज the chaupal पाकिस्तान को वो सारे सबूत देगा जिससे ये साफ साबित होता है कि पुलवामा हमले की साजिश पाकिस्तान की धरती पर ही रची गई थी।

पहला सबूत- ये हमला भले ही चौदह फरवरी को हुआ हो लेकिन इसकी तैयारी काफी पहले से की जा चुकी थी। हमले से नौ दिन पहले यानी पांच फरवरी को जैश के मुखिया मौलाना मसूद अजहर ने पेशावर शहर में पाकिस्तानी सेना के बीच मे जाके एक रैली को अड्र्स किया था और इसी रैली में उसने पुलवामा को जैश का अहम ठिकाना बताते हुए धमकी दी थी कि भारत मे अगले कुछ महीनों में आतंकी धमाके किए जाएंगे और उसके बहादुर लड़ाके दिल्ली तक जाएंगे।  मसूद अजहर ने भारत को पठानकोट,नगरोटा जैसे पुराने हमलों की याद दिलाते हुए कहा था कि कराची, पेशावर, बहावलपुर और गुजरांवाला जैसे इलाको से नौजवान आगे आकर कश्मीर में जिहाद के लिए लगातार जा रहे है।नफरत का जहर फैलाने वाले इन आतंकियों को बाकायदा इमरान खान ने पर्याप्त सुरक्षा भी उपलब्ध कराई थी जिसको लेकर मसूद अजहर ने सुरक्षाकर्मियों को थैंक्यू भी बोला था।

सबूत नंबर 2-  5 फरवरी को कश्मीर एकजुटता दिवस के अवसर पर एक रैली ने जैश के प्रमुख मसूद अजहर के भाई मौलाना रउफ असगर ने भारत और कश्मीर में फिदायीन हमले का संकेत दे दिया था। अपने भाषण में मौलाना कह रहा है कि भारत को खून से रंग दिया जाएगा,असगर ने इसके अलावा कहा था कि उसके पास काफी लोग थे जो कश्मीर के लिए निकल चुके है और जल्द ही भारत को खून से रंग दिया जाएगा।

सबूत नंबर 3-  पाँच फरवरी को जैश ए मोहम्मद के आतंकियों ने कराची में भी रैली की थी और उसमे भारत के भीतर इस्लाम का परचम लहराने की बात कही गई थी इस रैली में संसद हमले के मास्टरमाइंड अफजल गुरु के नाम पर आत्मघाती दस्ते बनाए जाने का भी ऐलान किया गया था। कराची में हुई इस रैली में ये साफ कर दिया गया था कि भारत मे खून खराबे ले लिए जैश ए मोहम्मद ने अपने 7 दस्ते भारत के अलग अलग शहरों में भेज दिए है।

सबूत नंबर 4- इस्लामाबाद की एक रैली को संबोधित करते हुए आतंकी सरगना हाफिज सईद ने पीएम मोदी को धमकी देते हुए कहा था कि मोदी अपनी फौज लेकर कश्मीर से निकल जा और अगर नही निकला तो बहुत कुछ छोड़ना पड़ जाएगा।


उम्मीद है पाक पीएम इमरान खान तक ये सबूत ज़रूर जाएंगे। उन्होंने हमले के सबूत ही तो मांगे थे,हमने दे दिए है। पाक पीएम ने शपथ लेते हुए कहा था कि वो आतंकवाद को खत्म करने की दिशा में दुनिया के कंधे से कंधा मिलाकर चलेंगे और इसके लिए हर ज़रूरी कदम भी उठाएंगे।अब देखना दिलचस्प है कि इन सबूतों को देखने के बाद इमरान भारत को धमकी देने वाला खेल खेलने के बजाय अपने यहां पल रहे आतंकियों पर कारवाई करने की जहमत उठा पाएंगे ।