क्या आपको भी रविश कुमार का call आया था?

305


क्रेडिट कार्ड, गोल्ड लोन और होम लोन offer या scheme के लिए आये advertisement कॉल तक तो ठीक था लेकिन अब ऐसे call करने वालों की लिस्ट में जाने माने Journalist रविश कुमार भी शामिल हो चले हैं. हज़ारो लोगों को आये दिन यह फ़ोन कॉल आ रहें हैं, और ये कॉल NDTV के ही द्वारा करवाए जा रहें हैं, दरअसल चुनवी मौसम में अपने चैनल का प्रचार कर लोगों से उसको देखने की अपील कर रहे हैं रविश कुमार….
इस फ़ोन कॉल पर रविश जी अपनी आवाज में कहते हैं कि उनका चैनल NDTV एक विशेष नंबर पर आ रहा है जो की चुनावों पर बेस्ट कवरेज देता है. यह फ़ोन कॉल अचंभित करने वाला है क्योंकि कुछ ही दिनों पहले उन्होंने मीडिया चैनलों की चुनावी कवरेज पर अपने कुछ अलग ही विचार व्यक्त किये थे. जी हाँ…. यह वही पत्रकार है जो “the wire” के इंटरव्यू में लोगों से दो महीने तक टीवी पर न्यूज़ न देखने की गुज़ारिश कर रहे थे. और तो और उन्होंने टीवी को उठा कर घर से बाहर फेक देने का भी सुझाव दिया था.
आखिर इन दोहरे बयानों का मतलब क्या बनता है, इन दोनों ही statements को देखकर रविश कुमार जनता से कहीं यह तो नहीं कहना चाह रहे हैं कि जनता को केवल उनका ही न्यूज़ चैनल देखना चाहिए. आखिर बाकि चैनलों और न्यूज़ पोर्टलों से क्या आपत्ति हैं उन्हें?
सवाल यहाँ ये है की क्या एक ही न्यूज़ चैनल देख कर लोगों को देश में चल रही तमाम चीजों की सारी जानकारी हो जाएगी? क्या उनका न्यूज़ चैनल देश में हो रही सारी गतिविधियों की जानकारी दे देता है? क्या बाकि सारे चैनल propaganda न्यूज़ चला रहे हैं? क्या देश भर की 900 से अधिक न्यूज़ चैनलों में सिर्फ उनका ही चैनल निष्पक्ष है? क्या वो PRINT, TELEVISION और Digital मीडिया पर सवालिया निशान खड़ा कर रहे हैं?
भारत एक युवा देश है,.. हमारे देश के नौजवानों को तो देश में चल रही हर हलचल की खबर होनी चाहिए ताकि वो सही या गलत के बीच आंकलन कर सके और अपना महत्वपूर्ण वोट एक सही candidate को दे ना की सुनी सुनाई बातों पर विश्वास कर भ्रम में जियें.
हम तो यही कहेंगे की यह पब्लिक है और सब जानती है गलत और सही चुनाव देश की जनता पर ही छोड़ देना चाहे वोह राजनेतिक पार्टियों के बाच का चुनाव हो या उनके पसंदीदा न्यूज़ चैनलों का.